पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

नई तकनीक:चरी के गूदे से भी बनेगी चीनी, पीएयू ने विकसित की तकनीक

जालंधर11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

पंजाब एग्रीकल्चरल यूनिवर्सिटी लुधियाना ने चरी के मीठे गूदे से चीनी बनाने की तकनीक विकसित की है। इसके लिए भारत सरकार के पेटेंट दफ्तर नई दिल्ली में यूनिवर्सिटी की इस तकनीक को पेटेंट कराया गया है। यह पेटेंट भारतीय पेटेंट अधिनियम, 1980 के तहत 20 वर्ष की अवधि के लिए मिला है। माइक्रोबायोलॉजी विभाग के डॉ. एस. कोचर का एक और पेटेंट है।

शोध दल में डॉ. कोचर के पीएचडी. स्टूडेंट मिस रितिका सहित एचएस ओबेरॉय भी शामिल रहे। डॉ. कोचर के अनुसार, यह शोध एक किण्वन विधि के बारे में है, जिसमें एंजाइम का उपयोग मीठे गूदे से अधिक ग्लूकोज बनाने के लिए किया जाता है। यह तकनीक कम ऊर्जा और कम लागत वाली है, क्योंकि इसके एंजाइमों को कम तापमान पर रखने की आवश्यकता नहीं होती है।

खबरें और भी हैं...