टूरिज्म बोर्ड ने मंजूर की योजना:800 साल पुराने किला सराय का सौंदर्य लौटेगा, 1 साल में बदलेगी सूरत

जालंधर9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • टूरिज्म मंत्री चन्नी बोले- ऐेतिहासिक शहर की विकास योजना में ये अहम कदम
  • सुल्तानपुर लोधी स्थित सराय को श्री गुरु नानक देव जी की चरण छोह प्राप्त है

स्मार्ट सिटी जालंधर के कंट्रोल एंड कमांड सेंटर में सुल्तानपुर लोधी को इसलिए शामिल किया गया है क्योंकि ये जालंधर के टूरिज्म सर्किट का हिस्सा है। जालंधर की मुगलिया धरोहर नूरमहल की सराय और जहांगीरी सराय के बाद अब सुल्तानपुर लोधी के किला सराय का सौंदर्य लौटाया जाएगा।

एक तो किला सराय को श्री गुरु नानक देव जी की चरण छोह प्राप्त है और दूसरा ये जालंधर की उक्त दो प्राचीन इमारतों के बाद तीसरी ऐसी इमारत है जिसे जालंधर से गुजरती जीटी रोड के किनारे बनाया गया था। अब किला सराय को पंजाब का टूरिज्म एंड हैरिटेज प्रोमोशन बोर्ड फिर से सुंदर बनाएगा। पंजाब के टूरिज्म मंत्री चन्नी ने कहा कि वर्क ऑर्डर होने के बाद इस काम में 12 महीने लगेंगे। उन्होंने कहा कि ऐेतिहासिक शहर की विकास योजना में ये अहम कदम है।

आजादी के बाद पुलिस स्टेशन बना दिया गया था

देश की आजादी के बाद इसे पुलिस स्टेशन बना दिया गया। साल 2019 में पंजाब सरकार ने फैसला किया था कि यहां से थाना शिफ्ट करके इसके बाग बगीचे, प्राचीन लाहौरी गेट और दिल्ली गेट का सौंदर्य लौटाया जाए। जालंधर में जहांगीरी सराय और नूरमहल की सराय में भी दो-दो गेट हैं।

मुगल एक गेट दिल्ली की तरफ व दूसरा गेट लाहौर की तरफ रखा करते थे। जालंधर में डिवीजनल कमिश्नर ऑफिस में सूचनाओं के अनुसार टूरिज्म एंड हैरिटेज प्रोमोशन बोर्ड 1 साल के भीतर इसका हैरिटेज वर्क करवाएगा। इसकी कीमत काम को पूरा करने वाली कंपनी बताएगी। टेंडरिंग प्रोसेस शुरू किया जा चुका है।

कोरोना से पहले आए 4,73,85,387 सैलानी

पंजाब में बाहरी राज्यों से श्री हरमंदिर साहिब में माथा टेकने यात्री आते हैं। केंद्र सरकार के टूरिज्म मंत्रालय के अनुसार कोरोना से पहले यानी 2019 में पंजाब में 4,73,85,387 सैलानी आए। इनके अलावा 11,01,343 विदेश से अलग से आए। साल 2015 में केवल 2,57,96,361 सैलानी रिकॉर्ड हुए थे। पंजाब सरकार इसीलिए सुलतानपुर लोधी में टूरिज्म सेंटर किला सराय को विकसित करने जा रही है।

किला सराय के लिए मंजूर हुए थे 70 लाख

मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल के समय किला सराय के लिए 70 लाख की योजना बनी थी। इस प्राचीन इमारत में पुलिस स्टेशन चलता था। इसे शिफ्ट करना, गिर चुके हिस्सों को नया बनाना शामिल था। लाहौरी गेट को सुंदर बनाने की मंजूरी के बाद पैसे की मदद रुक गई थी। अब मौजूदा पंजाब सरकार का ध्यान इस तरफ गया है।

खबरें और भी हैं...