धान की आमद में तेजी:मकसूदां मंडी की खाली फड़ों का इस्तेमाल करके, सुखाई जा रही फसल

जालंधर15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
दाना मंडी में धान सुखाते हुए कर्मचारी। - Dainik Bhaskar
दाना मंडी में धान सुखाते हुए कर्मचारी।
  • जिले की मंडियों में 25,992 मीट्रिक टन पहुंचा परमल और बासमती, 24,413 खरीदा

धान की खरीद शुरू होने के बाद मंडियों में आमद तेजी से बढ़ गई है। मंडी मार्केट कमेटी के अधिकारियों ने मकसूदां मंडी की खाली फड़ों का इस्तेमाल फसल सुखाने को करने के िलए कहा है। इसके चलते मजदूर फसल को वहां पर सुखा रहे हैं। बुधवार को जिले की मंडियों में 9239 मीट्रिक टन परमल व 9239 मीट्रिक टन बासमती की आमद हुई। नई दाना मंडी में ज्यादातर किसान फसल को सुखा कर ला रहे हैं और साथ में खुद ही नमी (माइस्चराइजर) चेक कर रहे हैं। मंडी मार्केट कमेटी के सेक्रेटरी सुरिंदरपाल शर्मा ने बताया कि अब तक 25,992 मीट्रिक टन परमल की आमद हुई है और 24,413 मीट्रिक टन की खरीद हुई। 1579 मीट्रिक टन अभी पड़ी हुई है। इसी तरह बासमती की 25,992 मीट्रिक टन आमद हुई है और 24,413 मीट्रिक टन खरीदी जा चुकी है।

धान संभालने को बारदाना की नहीं आएगी कमी

मंडी अधिकारियों का कहना है कि फसल को संभालने के लिए बारदाने की कमी नहीं आने दी जाएगी। जैसे ही खरीद हो रही है, साथ में कंपनियों से लिफ्टिंग का काम करवाया जा रहा है। फसल की आमद ज्यादा होने के कारण किसानों से अपील की जा रही है कि वे फसल को सुखाकर लाएं ताकि जल्द खरीद और लिफ्टिंग हो सके।

1 पाॅइंट नमी ज्यादा थी, जो मंडी में आकर ठीक हो गई

गांव डुपई के किसान सुखबीर सिंह ने बताया कि 70 क्विंटल धान लेकर पहुंचे हैं। नमी 17 पॉइंट होनी चाहिए थी, लेकिन एक पाॅइंट ज्यादा थी। मंडी में फसल को सुखाने में समय नहीं लगा और अब बोरियोें में भरी जाएगी। आढ़ती फसल को संभालने के लिए पूरा सहयोग कर रहे हैं और किसानों को कोई परेशानी नहीं होगी।

खबरें और भी हैं...