पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बेगाने तो अपने होते हैं:बुजुर्ग के शव को 12 दिन रहा अपनों का इंतजार पाठ और अरदास के बाद पूरी हुई अंतिम यात्रा

जालंधर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पाठ व अंतिम अरदास के बाद सोसायटी के प्रधान जतिंदर पाल सिंह, गुरप्रीत सिंह, कुलविंदर सिंह जस, गुरदेव सिंह ने बताया कि सोसायटी अब तक 960 कोरोना संक्रमित मृतकों का अंतिम संस्कार कर चुकी है। - Dainik Bhaskar
पाठ व अंतिम अरदास के बाद सोसायटी के प्रधान जतिंदर पाल सिंह, गुरप्रीत सिंह, कुलविंदर सिंह जस, गुरदेव सिंह ने बताया कि सोसायटी अब तक 960 कोरोना संक्रमित मृतकों का अंतिम संस्कार कर चुकी है।
  • आखिरी उम्मीद वेलफेयर सोसायटी के सहयोग से किया गया ‘निर्मल सिंह’ का अंतिम संस्कार
  • सोसायटी के प्रधान बोले- अब तक 960 कोरोना संक्रमित मृतकों का दाह संस्कार

कपूरथला रोड पर रहने वाले ‘निर्मल सिंह’ का वीरवार को जिला प्रशासन ने आखिरी उम्मीद वेलफेयर सोसायटी के सहयोग से अंतिम संस्कार करवा दिया। ‘निर्मल सिंह’ को कोरोना संक्रमण की पुष्टि होने के बाद चार जून को सिविल अस्पताल दाखिल करवाया और अगले ही दिन उनकी मौत हो गई। मृतक के परिजनों ने शव ले जाने के लिए कोई प्रयास नहीं किया। जिला प्रशासन ने दो दिन पहले शव सिविल अस्पताल की मोर्चरी में रखवाया और थाना बस्ती बावा खेल की पुलिस को मृतक के परिजनों को ढूंढने के लिए कहा था। दो दिन बाद उनका कुछ पता नहीं लग सका।

48 घंटे की बजाय 12 दिन इंतजार

अस्पताल में दाखिल करवाते समय मरीज के साथ आए लोगों ने उनका नाम निर्मल सिंह उम्र 50 साल और निवासी कपूरथला रोड नोट करवाया था। इस दौरान दो मोबाइल नंबर भी दर्ज करवाए गए, जोकि लगातार बंद आते रहे। कोरोना प्रोटोकाल के मुताबिक 48 घंटे तक संक्रमित मृतक का कोई परिजन डेडबॉडी लेने नहीं अाता तो अथाॅरिटी की तरफ से अंतिम संस्कार करने का प्रावधान है।

खबरें और भी हैं...