खुलती परतें:गुरु अमरदास नगर में रुके थे हत्यारोपी, पनाहगार धरा

जालंधर3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
हत्यारोपी कमलेश व राज कुमार। - Dainik Bhaskar
हत्यारोपी कमलेश व राज कुमार।

बस्ती पीरदाद रोड स्थित तारा सिंह एवेन्यू में मंगलवार दोपहर कत्ल कर दी गई 49 साल की कमलजीत कौर पप्पी के हत्यारोपी लुटेरे संतोषी नगर के राज कुमार और लम्मा पिंड के कमलेश कुमार कत्ल के बाद सीधे गुरु अमरदास नगर में दोस्त दिलीप सिंह के घर गए थे। दिलीप के घर में कुछ देर रुके। दोनों ने सिटी छोड़कर जाने की योजना बनाई, मगर पुलिस की पकड़ में आ गए। राज कुमार ने माना कि जब वे धर्मा मर्डर केस में सजा काट रहा था तो जेल में दोस्ती दिलीप से हुई थी। दिलीप को नशे के केस में दस साल की कैद हुई थी।

उसे कुछ महीने पहले हाईकोर्ट से बेल मिली थी और वह बाहर आ गया था। सजा के खिलाफ अपील करने के कारण हाईकोर्ट से बेल मिल गई थी। बीते साल सितंबर में बेल पर आया। इसके बाद मुलाकात दिलीप से हुई। थाना-1 की पुलिस ने हत्यारों को पनाह देने के आरोप में दिलीप को बुधवार देर शाम अरेस्ट कर लिया। उसके खिलाफ पनाह देने का केस दर्ज किया। उधर, डीसीपी जसकिरनजीत सिंह तेजा ने कहा कि लूटे गए 3 मोबाइल के अलावा 13 और फोन बरामद किए हैं। जब वारदात को अंजाम दिया था, तब दोनों नशे में थे।

पुलिस पूछताछ कर रही है कि 13 फोन कहां से आए हैं। दूसरी ओर थाना बस्ती बावा खेल के एसएचओ गगनदीप सिंह सेखों ने कहा कि हत्यारोपियों को कोर्ट में पेश कर 2 दिन के रिमांड पर लिया है। शव को पोस्टमार्टम के बाद फैमिली को सौंप दिया है। संस्कार कर दिया गया।

बोला- हमने दूसरे घर में करनी थी वारदात, पर रेकी करते समय महिला अकेली दिखी
कमलेश ने कहा कि वह मूल रूप से यूपी का रहने वाला है, मगर काफी समय से सिटी में रहता है। नशा करने के कारण उसकी दोस्त क्रिमिनल टाइप के लोगों से थी। राजकुमार जेल से आया तो वह उसका साथी बन गया था, क्योंकि राज कुमार के कारण नशा बड़ी आसानी से मिल जाता था। राज कुमार ने कहा कि वह दोपहर को तारा सिंह एवेन्यू में रेकी कर रहे थे। उन्होंने महिला के घर नहीं जाना था, मगर जब वे वारदात को अंजाम देने के लिए निकले तो देखा कि एक महिला अकेली झाड़ू लगा रही है। महिला से किसी का नाम पूछा।

वह अपने कमरे में गई तो उसके पीछे चले गए। महिला को चाकू दिखाया, मगर वह चोर-चोर चिल्लाने लगी। उनका डॉग आ गया। दोनों को चाकू मार दिए। उनके बेटे को बंधक बना कर बेड पर बैठा दिया था। जो महिला झाड़ू लगा रही थी, वह छत पर दौड़ गई थी। राज कुमार ने कहा कि लूट की वारदात करके वे लोग निकल आए। थोड़ी दूरी पर जाकर एक ऑटो किया और दिलीप के घर पहुंच गए थे। यहां थोड़ी देर रुके। दिलीप को बता दिया था कि वे लूट करके आए हैं। राज कुमार ने कहा कि महिला न चिल्लाती तो उनके हाथ से कत्ल न होता। इनका इरादा लूट करना था, न कि कत्ल।

खबरें और भी हैं...