पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पार्षद की खरी खरी:आठ माह में नहीं बनी शंकर गार्डन की सड़क पार्षद ने मेयर व कमिश्नर पर निकाली भड़ास

जालंधरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
रोड गली की जांच करती पार्षद डा. जसलीन सेठी। - Dainik Bhaskar
रोड गली की जांच करती पार्षद डा. जसलीन सेठी।

कैंट हलके के वार्ड नंबर 26 के पार्षद रोहन सहगल ने निगम ठेकेदार के रवैये को लेकर वीरवार को मेयर जगदीश राजा और कमिश्नर करणेश शर्मा के खिलाफ जमकर भड़ास निकाली। मामला वार्ड के शंकर गार्डन में 8 माह से सड़क का काम पूरा नहीं होने का है।

पार्षद ने कहा कि 17 लाख की लागत वाला टेंडर ठेकेदार मनीष अग्रवाल ने सितंबर, 2020 में लिया था। जो अब तक पूरा नहीं हो पाया है। एसई रजनीश डोगरा ने कहा कि ठेकेदार से कह दिया है कि वो दो दिन के अंदर पत्थर डालकर बेस बनाने का काम शुरू करे।

ठेकेदार को ब्लैकलिस्ट करने पर फैसला आज
निगम की शुक्रवार को होने वाली एफएंडसीसी की मीटिंग में बीएंडआर के ठेकेदार ब्लू मून सोसायटी के सुरजीत नागी और स्ट्रीट लाइट के ठेकेदार गुरम इलेक्ट्रिक को ब्लैक लिस्ट करने का फैसला होगा। बीती मीटिंग में डिप्टी मेयर हरसिमरनजीत सिंह बंटी की मांग पर मेयर जगदीश राजा ने दोनों ठेकेदार को तीसरा नोटिस जारी कर मीटिंग में फाइल पेश करने को कहा था, ताकि दोनों को ब्लैक लिस्ट करने के फैसले पर मोहर लगाई जा सके।

पार्षद ने रोड गली के काम पर जताई नाराजगी
जालंधर। सेंट्रल हलका के वार्ड नंबर 20 की पार्षद डाॅ. जसलीन सेठी ने स्मार्ट सिटी फंड से बीएमसी चौक से नामदेव चौक तक दोनों तरफ सर्विस रोड पर बनाई जा रही रोड गली के काम पर भी नाराजगी जताई है। वीरवार दोपहर को काम की जांच करने पहुंची डाॅ. सेठी ने कहा कि पहले घटिया क्वालिटी की सड़क बना दी। जहां कई जगह से लुक-बजरी उखड़ने लगी है। सड़क पर बने मैनहोल को ऊपर करने की बजाय लुक के नीचे दबा दिया गया है।

जो रोड गली बनाई जा रही है, वो भी सड़क के लेवल में नहीं है। उन्होंने कहा कि स्मार्ट सिटी के अधिकारी सड़क के साथ मैनहोल और रोड गली के काम की जांच करें, उसके बाद ही ठेकेदार को पेमेंट दी जाए। मानक के अनुसार रोड गली बनाने के साथ ही मैनहोल का लेवल सड़क के बराबर किया जाए। साथ ही ठेकेदार से कहा है कि रोड गली और मैनहोल के लिए बनाया एस्टीमेट ‌भी उन्हें दिखाया जाए, ताकि पता लग सके कि इसके ऊपर कितना फंड खर्च हो रहा है।

खबरें और भी हैं...