पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Jalandhar
  • The Roads Of The City Were Dug, When The Tenders Are Still In Process, The Corporation Has Completed 25 Km Out Of 100. Main Roads Broken To Lay Water Pipes

भास्कर ग्राउंड रिपोर्ट:शहर की सड़कें खोद डालीं, बनेंगी कब टेंडर अभी प्रोसेस में ही हैं,निगम ने 100 में से 25 किमी. मुख्य सड़कें पानी की पाइपें डालने के लिए तोड़ीं

जालंधर4 दिन पहलेलेखक: प्रवीण पर्व
  • कॉपी लिंक
डीएवी कॉलेज फ्लाईओवर के सामने पहले पानी की लाइन डालने के लिए सड़क में खुदाई की गई थी और इन दिनों सीवरेज लाइन डालने के लिए खुदाई चल रही है। - Dainik Bhaskar
डीएवी कॉलेज फ्लाईओवर के सामने पहले पानी की लाइन डालने के लिए सड़क में खुदाई की गई थी और इन दिनों सीवरेज लाइन डालने के लिए खुदाई चल रही है।

सोढल मेले में पूरे पंजाब से पहुंचे लोगों को ट्रैफिक जाम का सामना करना पड़ेगा। हर साल पूरे पंजाब से एक लाख से ज्यादा भक्त जालंधर सिटी आते हैं। इस बार उनकी राह आसान नहीं होगी। ऊपर से लगातार 4 दिन की बरसात ने हालत खराब कर दी है। नगर निगम की मिस मैनेजमेंट के चलते पूरे शहर का ट्रैफिक डिस्टर्ब हो गया है। सिटी में 100 किलोमीटर मुख्य सड़कें हैं, जिनमें से 25 किलोमीटर को पानी की पाइपलाइन डालने के लिए खोदा जा चुका है। सबसे बड़ी प्राॅब्लम यह है कि फिलहाल तोड़ी गई सड़कों को बनाने के लिए कोई तैयारी नहीं है। निगम अफसर बरसातों का सीजन गुजरने का इंतजार कर रहे हैं।

अभी तक केवल एक ही सड़क ऐसी है, जिसे पाइप डालने के बाद तुरंत बनाया गया है। बाकी सबके टेंडर प्रोसेसिंग से बाहर नहीं आ पाए हैं। दिसंबर में लुक व बजरी के प्लांट बंद कर दिए जाते हैं। इस लिहाज से निगम के पास केवल दो महीने ही बाकी हैं, अगर सड़कें न बनीं तो अगले साल लोगों की परेशानी दूर होगी।

दरअसल, निगम ने प्राइवेट कंपनी को पिछले साल अक्टूबर में पाइपें बिछाने का प्रोजेक्ट सौंप दिया था। इसकी लागत 550 करोड़ के करीब है। एलएंडटी कंपनी रोज नई बनी सड़कें तोड़कर पाइपें डाल रही है और मिट्‌टी डालकर छोड़ दी जाती है। ऐसे में ट्रैफिक झटके झेलने को मजबूर हो रहा है। मिट्‌टी नरम होने के कारण गाड़ियों के टायर इसमें फंस जाते हैं।

सबसे अधिक दिक्कत वाले इलाके- मॉडल टाउन का चीमा चौक, डीएवी कॉलेज फ्लाईओवर, लाडोवाली रोड, नूरपुर-धोगड़ी रोड, शहीद भगत सिंह चौक।

यहां भी हालात नाजुक- चंदन नगर अंडरपास से लेकर वर्कशॉप चौक, बीएसएफ चौक से लाडोवाली रोड, बाबू जगजीवन राम चौक से लेकर वीर बबरीक चौक।

साल 2023 तक चलना है पाइप लाइन प्रोजेक्ट, नई बनी सड़कें चुनाव के बाद तोड़ेंगे

सतलुज दरिया से शहर को पानी देने वाला पाइप लाइन प्रोजेक्ट 2023 तक चलना है। इसके तहत सिटी में 100 किलोमीटर लंबी पाइपलाइन डाली जा रही है। पाइपलाइन का काम शुरू करने से पहले जो रोड नई बनाई गई हैं, उन्हें अब विधानसभा चुनाव के बाद तोड़ा जाएगा। जो सड़कें कंक्रीट से बनाई गई हैं, उन्हें खास कटर से काटा जा सकता है लेकिन लुक बजरी का सीधा नुकसान तय है।

सीधी बात-करणेश शर्मा, निगम कमिश्नर

Q. सिटी में 25 किमी. सड़कें खोद दी गईं, बनाई क्यों नहीं जा रही हैं?
-बरसात के कारण सड़कें बनाने का काम शुरू नहीं किया गया है।
Q. पाइपलाइन डालने और रोड बनाने को लेकर प्लानिंग क्या है?
-जिन सड़कों का नवनिर्माण करना था, वहां पाइपलाइन बिछाई गई। सड़कों का टेंडरिंग प्रोसेस शुरू है।
Q. पाइपलाइन पूरे शहर में डाली जानी है, जहां बगैर पाइपलाइन डाले रोड बनी हैं, वहां क्या होगा?
-हम नई बनी सड़क पर पाइपें अभी नहीं डालेंगे।
Q. तोड़ी गई सड़क पर ट्रैफिक के लिए सेफ्टी के कोई प्रबंध नहीं हैं?
-निर्माण एजेंसी को सुरक्षा के आदेश दिए हैं। जहां कमी है, दूर करवाएंगे।

खबरें और भी हैं...