पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Jalandhar
  • The Sandalwood Of The Father's Forehead Went Away, The Injured Father Could Not Go To The Crematorium, So The Son's Dead Body Was Brought To The Ward And Had The Last Darshan

दुखों का पहाड़:पिता के माथे का चंदन चला गया, घायल पिता श्मशान नहीं जा सकते थे, इसलिए बेटे के शव को वार्ड में लाकर कराए अंतिम दर्शन

जालंधर5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पिता की स्थिति ऐसी नहीं थी कि वह अंतिम संस्कार में शामिल हो सके। - Dainik Bhaskar
पिता की स्थिति ऐसी नहीं थी कि वह अंतिम संस्कार में शामिल हो सके।
  • संतोषी नगर में सिलेंडर ब्लास्ट - हादसे में जख्मी 4 साल के बच्चे की 4 दिन बाद मौत

14 अप्रैल की दोपहर संतोषी नगर में कार्बन डाईआक्साइड सिलेंडर के धमाके में परिवार की सारी खुशियां उड़ गईं। पत्नी बेसुध है। पति पिंटू गंभीर जख्मी और बच्चा चंदन शरीर छोड़ गया। पिता की स्थिति ऐसी नहीं थी कि वह अंतिम संस्कार में शामिल हो सके। तभी दुनिया के सबसे बड़े दर्द से पिता का सामना हुआ। जख्मी पिंटू को ह्वीलचेयर पर अस्पताल के वार्ड से बाहर लाया गया।

उससे कहा गया कि तुम्हें तुम्हारे बच्चे से मिलाना है। उसे यह पता नहीं था कि सप्ताह भर पहले यूपी से साथ आए जिगर के टुकड़े से अंतिम बार मिलेगा। तभी सफेद कपड़े में लिपटी मासूम की पार्थिव देह उसके करीब लाई गई। फिर भी उसे यकीन नहीं था कि इकलौता बेटा दुनिया से चला गया है, पर हुआ ऐसा ही।

सिर से कपड़े को हटाकर देखा कि हर पल खुशियां बिखेरने वाला चेहरा शांत हो गया था। आसपास खड़े लोगों ने दर्द के मारे आंखें मूंद लीं। यह पीड़ा असहनीय थी। तभी ह्वीलचेयर ईएसआई अस्पताल की ओर घुमा दी गई और एक पिता की चित्कार गूंज उठीं। वह रोता रहा और बशीरपुरा श्मशान में मासूम का अंतिम संस्कार कर दिया गया।

मृतक चंदन
मृतक चंदन
सिर से कपड़े को हटाकर देखा कि हर पल खुशियां बिखेरने वाला चेहरा शांत हो गया
सिर से कपड़े को हटाकर देखा कि हर पल खुशियां बिखेरने वाला चेहरा शांत हो गया
खबरें और भी हैं...