पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

गूगल पर कस्टमर केयर नंबर सर्च करना पड़ा महंगा:ठग ने PhonePe का अफसर बन खाते का ब्यौरा लेकर 80 हजार का चूना लगाया

जालंधर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
ठगी का शिकार हुए व्यक्ति ने बिजली बिल भरा था, उसकी अदायगी की कन्फर्मेशन नहीं आई तो कस्टमर केयर से बात करने के लिए नंबर ढूंढा। - Dainik Bhaskar
ठगी का शिकार हुए व्यक्ति ने बिजली बिल भरा था, उसकी अदायगी की कन्फर्मेशन नहीं आई तो कस्टमर केयर से बात करने के लिए नंबर ढूंढा।

जालंधर के एक व्यक्ति को गूगल से कस्टमर केयर नंबर सर्च करना महंगा पड़ गया। उसे जो नंबर मिला, वो किसी ठग का निकला। उसने बहाने से बैंक खाते की डिटेल्स से लेकर OTP तक ले लिया और फिर खाते से 80 हजार रुपए निकाल लिए। ठगी का शिकार होने के बाद व्यक्ति पुलिस के पास पहुंचा। अब पुलिस ने साइबर सैल की जांच के बाद हरियाणा, झारखंड व छत्तीसगढ़ के 4 ठगों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है।

नौगज्जा के रहने वाले राजन कुमार ने बताया कि उसने अपने मोबाइल नंबर पर इंस्टॉल PhonePe एप से 4,290 रुपए बिजली का बिल भरा था। यह पेमेंट उसके क्रेडिट कार्ड से तो चली गई लेकिन बिजली बिल अभी भी पेंडिंग ही आ रहा था। उसने इसके बारे में जानने के लिए पहले एप पर मैसेज भेजा तो उसे कहा गया कि 24 घंटे इंतजार करे, उसके बाद यह बिल क्लियर हो जाएगा। इसके बावजूद जब बिल पेंडिंग ही दिखता रहा तो उसने गूगल पर PhonePe के कस्टमर केयर का नंबर सर्च किया।उसे मोबाइल नंबर 07866872870 नंबर मिला।

उसने इस पर कॉल किया तो पूरी परेशानी सुनने के बाद सामने वाले ने कहा कि वो PhonePe के सीनियर अफसर से उसकी बात करा रहे हैं। फिर उसे मोबाइल नंबर 9832693065 नंबर से कॉल आई। उसने बातों ही बातों में उसकी पेमेंट आगे जारी करने के बहाने उसके खाते से 80 हजार रुपए निकाल लिए।

पुलिस के साइबर सेल ने इसकी जांच की तो पता चला कि ठगी की इस वारदात को छत्तीसगढ़ के रायघर तोलमा के पोलूसराम खालखो, हरियाणा यमुनानगर के पूरणचंद छोली की रीना देवी, झारखंड के देवधर मधुपुर में नूर इमाम कॉलोनी के ताज हसन खान व हरियाणा में सरकारी स्कूल के नजदीक इंदरी मेवट के रहने वाले तेजपाल ने अंजाम दिया है।

पुलिस की अपील : ऑफिशियल वेबसाइट या एप से ही लें नंबर

पुलिस ने लोगों से अपील की है कि अगर किसी व्यक्ति को किसी संस्थान से संपर्क करना हो तो उसकी ऑफिशियल वेबसाइट या मोबाइल एप से ही कस्टमर केयर का नंबर लें। गूगल पर अब ठगों ने अपने फर्जी नंबर डाले हुए हैं। लोग जब सर्च करते हैं तो उनका संपर्क इन ठगों से होता है और फिर वो कंपनी के फर्जी अफसर बनकर उनके खाते से पैसा निकाल लेते हैं।

खबरें और भी हैं...