• Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Jalandhar
  • The Woman Called The Driver Home Trapped In A Trap, Fake ASI And Havildar Raided From Behind, Threatening Pamphlets And Video Viral, All Three Arrested

जालंधर विजिलेंस ने पकड़ा हनीट्रैप गिरोह:महिला ने ड्राइवर को जाल में फंसा घर बुलाया, पीछे से नकली ASI व हवलदार ने की रेड, पर्चे व वीडियो वायरल की धमकी देकर ऐंठे रुपए, तीनों गिरफ्तार

जालंधर5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आरोपी कपूरथला में गैंग चला रहे थे। - प्रतीकात्मक फोटो - Dainik Bhaskar
आरोपी कपूरथला में गैंग चला रहे थे। - प्रतीकात्मक फोटो

जालंधर विजिलेंस ब्यूरो ने एक हनीट्रैप गिरोह को पकड़ा है। गिरोह की महिला सदस्य लोगों को अपने झांसे में फंसाकर घर बुलाती थी। पीछे से दो आरोपी फर्जी ASI व हवलदार बनकर रेड कर देते। इसके बाद वहां वीडियो बनाकर उसे वायरल करने व पर्चे की धमकी देकर रुपए ऐंठते थे। ऐसे ही अमृतसर के एक व्यक्ति को उन्होंने जाल में फंसाया तो रुपयों की मांग से तंग होकर उसने विजिलेंस को शिकायत कर दी। जिसके बाद तीनों आरोपियों को गिरफ्तार कर विजिलेंस ने एंटी करप्शन एक्ट का केस दर्ज कर लिया है।

विजिलेंस ब्यूरो के SSP ने बताया कि अमृतसर का रहने वाला व्यक्ति खेतीबाड़ी करता है। इससे पहले वो प्राइवेट ड्राइवरी करता था। उसी दौरान उसकी पहचान कपूरथला के वडाला कलां की बबली से पहचान हो गई। 24 अगस्त को उसे बबली का फोन आया। उसने कहा कि मुझे तेरे साथ कोई सलाह करनी है। उसने उसे गांव वडाला कलां मिलने बुला लिया।वह उसी दिन शाम को बबली के घर पहुंच गया।

रात रुका तो सुबह ही पड़ी रेड, थाने ले जाने की देते रहे धमकी

रात ज्यादा होने की वजह वह बबली के घर ही रुक गया। अगले दिन यानी 25 अगस्त को सुबह 3 बजे वर्दी पहने एक व्यक्ति बबली के घर के अंदर आया। उसके कंधे पर एक स्टार लगा था। उसके साथ सिविल वर्दी में दो और आदमी थे। उसने खुद को थाना सिटी कपूरथला का सहायक सब इंस्पेक्टर (ASI) लखबीर सिंह बताया। उक्त लखबीर सिंह ने उसे थप्पड़ मारे और कहा कि तू यहां गलत काम करने आया है।उसे डराने-धमकाने के बाद मोबाइल पर वीडियो बना ली। फिर उसे अपने साथ थाने ले जाने की बात कहने लगे। इससे शिकायतकर्ता डर गया।

मामला रफा-दफा करने के लिए मांगे 4 लाख, एक लाख में हुआ सौदा

उसने मिन्नतें की तो उन्होंने कहा कि 4 लाख रुपए दे वर्ना उसके खिलाफ केस दर्ज कर देंगे। उसकी वीडियो भी वायरल कर देंगे। व्यक्ति ने गरीबी का वास्ता दिया तो उसने कहा कि एक लाख रुपए अभी दे तो उसे छोड़ देंगे।उस वक्त ASI ने उसकी जेब से 5 हजार रुपए निकाल लिए। फिर बबली उसके साथ एटीएम पर आई। वहां से उसने 30 हजार रुपए निकलवाए। जिसे उसने ASI लखबीर को दे दिया। इसके बाद वह फोन कर बाकी के 70 हजार रुपए के लिए उसे धमकाने लगे।

दोस्त के जरिए भिजवाए रुपए

फिर 27 अगस्त को लखबीर का फोन आया कि अगर आज रुपए नहीं दिए तो उसके खिलाफ केस दर्ज कर वीडियो वायरल कर देगा। शिकायतकर्ता ने कहा कि वो लुधियाना आ रखा है, इस वक्त नहीं आ सकेगा। फिर भी वो धमकाते रहे तो उसने अपने दोस्त को कॉल कर 20 हजार रुपए लेकर थाना कपूरथला में लखबीर सिंह को देने के लिए भेज दिया। जब उसने लखबीर को फोन किया तो उसने कहा कि रुपए कम हैं। फिर उसने कहा कि मैं एक आदमी को अर्बन एस्टेट कपूरथला के मोड़ पर भेज रहा हूं। उसे रुपए दे देना। वहां सफेद रंग की स्कूटी पर एक व्यक्ति आया और रुपए लेकर चला गया।

फिर फोन आया तो विजिलेंस को शिकायत कर दी

30 अगस्त को फिर ASI लखबीर सिंह का फोन आया। उसने कहा कि बाकी बचे 50 हजार रुपए देकर जा, नहीं तो तेरे खिलाफ पर्चा दर्ज कर दूंगा।इसकी शिकायत मिली तो विजिलेंस के डीएसपी अश्विनी कुमार ने इंस्पेक्टर लखविंदर सिंह की अगुवाई में एक स्पेशल टीम तैयार की। जिसके बाद विजिलेंस ने ट्रैप लगाया और 50 हजार रुपए समेत कथित ASI लखबीर सिंह उर्फ ज्योति निवासी मोहल्ला गुरु तेग बहादुर नगर और गुरदीप सिंह निवासी मुहल्ला हाथीखाना कपूरथला को गिरफ्तार कर लिया।

पूछताछ में पता चला, आरोपी नकली पुलिस वाले

उनसे पूछताछ हुई तो पता चला कि खुद को ASI लखबीर सिंह बताने वाले का असली नाम ज्योति है। उसका साथी जो हवलदार बनता था, गुरदीप सिंह है। यह दोनों ही पुलिस विभाग में नहीं है। आरोपी पुलिस के वेश में लोगों को डरा-धमकाकर वसूली करते हैं।

इनमें कमलजीत कौर उर्फ बबली भी शामिल है। बबली लोगों को अपने जाल में फंसाकर घर बुलाती है। पीछे से दोनों पुलिस वाले बनकर रेड कर देते हैं। उनकी वीडियो बनाकर उसे वायरल करने व केस दर्ज करने की धमकी देकर वसूली करते हैं। विजिलेंस ने जब आरोपी ज्योति के घर की तलाशी ली तो वहां से ASI वर्दी भी बरामद हुई। इस मामले में कमलजीत कौर उर्फ बबली को भी गिरफ्तार कर लिया गया है।

खबरें और भी हैं...