इंडस्ट्री मीट:व्यापारियों ने दिल्ली के सीएम को बताए सूबे में नई इंडस्ट्री न लगाने के कारण

जालंधर7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल, एमपी भगवंत मान, राघव चड्डा व अन्य। - Dainik Bhaskar
दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल, एमपी भगवंत मान, राघव चड्डा व अन्य।
  • आपकी समस्याएं मेरी होंगी, सिर्फ वादा करें कि पंजाब के नौजवानों को रोजगार देंगे

आम आदमी पार्टी के नेशनल कनवीनर और दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने जालंधर के उद्योगपतियों और व्यापारियों के साथ हाईवे पर स्थित एक होटल में मीटिंग की। मीटिंग में आप लीडरशिप के अलावा व्यापारी संगठनों के 200 से अधिक लोग पहुंचे थे। उन्होंने व्यापार में सरकार की तरफ से आ रही दिक्कतें और इंडस्ट्री पॉलिसी समेत कई मुद्दे रखे। उन्होंने पूछा कि वे इन्हें कैसे ठीक कर सकते हैं? केजरीवाल ने व्यापारियों से कहा कि वे उनसे उम्मीद लेकर आए हैं, न कि उनका पैसा। चुनाव से पहले उन्होंने बादलों और कैप्टन से कई बार मुद्दों को लेकर बातचीत की है, लेकिन हल नहीं हुआ है।

पंजाब के व्यापारी मुझसे कहें तो उन्हें पता चल जाएगा। उद्योगपति नरिंदर सग्गू, सीआईआई के चेयरमैन तुषार जैन, पवन कुमार, केमिस्ट एसो. की तरफ से जतिंदर सिंह ने बात रखीं। कारोबारियों ने कहा कि इनहांसमेंट पॉलिसी के कारण छोटे से बड़ा व्यापारी परेशान हैं। नई फैक्ट्री लगाने में सरकार मदद कर रही है लेकिन पहले से काम कर रही इंडस्ट्री को वर्षों के अपने जीएसटी रिफंड का इंतजार है। बाहरी व्यक्ति पंजाब में इंडस्ट्री नहीं लगाना चाहता। अरविंद केजरीवाल ने कहा कि पंजाब में हर घर में पढ़े-लिखे बेरोजगार हैं। व्यापार और इंडस्ट्री को प्रोत्साहित किया जाए तो युवाओं को रोजगार मिल सकता है। आप वादा करें कि इंडस्ट्री लगाएंगे और युवाओं को रोजगार देंगे। हमारी आपके पैसे पर नजर नहीं। हमें सिर्फ आपका साथ चाहिए।

कारोबारियों का सीधा सवाल

हम कारोबार और बदलाव चाहते हैं, आप कैसे करेंगे?

अरविंद केजरीवाल का जवाब

सब ट्रांसपेरेंसी से होगा, हर महीने दिक्कतें हल करेंगे

10 मुद्दे... कारोबारियों ने रखे

1. नई इंडस्ट्री लगाने के लिए इनहांसमेंट पाॅलिसी पूरी तरह खत्म की जाए। इंडस्ट्री लगाने के बाद कानूनी पेच न फंसे, इसलिए इनहांसमेंट पाॅलिसी खत्म की जानी चाहिए। 2. 30 साल से पंजाब में फोकल पाॅइंट नहीं बना। हालात यह हैं कि फोकल पाॅइंट के साथ वाले एरिया में 80% नई इंडस्ट्री लग चुकी है। 3. फोकल पाॅइंट में सड़क से लेकर कई प्रकार के इंफ्रास्ट्रक्चर की दिक्कत है। काम कागजों में तो पास हैं, लेकिन हकीकत में कहीं नहीं है। 4. इंस्पेक्टरी राज खत्म किया जाए, क्योंकि ई-गर्वनेंस के बावजूद कई दिनों तक फाइलें पहले जिला, फिर चंड़ीगढ़ में पड़ी रहती है। 5. जहां इंडस्ट्री जोन घोषित किया जाए, वहां किसी भी प्रकार के सीएलयू की जरूरत नहीं होनी चाहिए। 6. केमिस्ट एसोसिएशन ने कहा- केमिस्टों को प्रशासन नशा तस्करों के रूप में देखता है। व्यापार करना मुश्किल हो गया है। 7. इंडस्ट्री का कई वर्षों से रिफंड बकाया है। इस पर सरकार निर्णय नहीं लेती है। व्यापारी परेशान हो रहे हैं। 8. सरकारी टेरेरिज्म का शिकार हो रहे हैं। इसमें इंस्पेक्टर राज भी शामिल है। इसे खत्म करने बेहद जरूरी है। 9. सीएलयू के चलते हम अपनी किसी प्रॉपटी को बेच नहीं सकते, क्योंकि जो जमीन 50 लाख की होती है, उसके लिए हमें बाद में इनहांसमेंट के चलते लैंडलॉर्ड को लाखों रुपए और देेने पड़ते हैं। 10. व्यापारियों की समस्याओं की सुनवाई और उनका निपटारा किया जाना चाहिए।

10 वादे... केजरीवाल ने किए

1. पंजाब बिजली उत्पादक इसलिए यहां 24 घंटे बिजली सप्लाई होगी। 2. लाल फीताशाही और इंस्पेक्टर राज खत्म किया जाएगा। पैसा ऊपर मंत्री तक नहीं जाएगा। जिन कानूनों की जरूरत नहीं, खत्म होंगे। 3. वैट रिफंड 3 से 6 महीने में होगा। बड़ी रकम व्यापारियों को किस्तों में रिटर्न होगी। 4. इंडस्ट्रियल एरिया या जोन में इंफ्रास्ट्रक्चर के लिए अलग से बजट पहली मीटिंग में तय होगा। इसमें सीवरेज, सड़कें आदि होंगे। 5. किसी भी प्रकार की कोई इनहांसमेंट नहीं होगी। 6. कोई भी मंत्री आपकी फैक्ट्री में हिस्सेदार नहीं होगा। आप काम करें और बनता टैक्स दें। 7. इंडस्ट्री जोन घोषित एरिया में सीएलयू नहीं होगा। जमीन खरीदने के बाद बस एक बार पोर्टल पर व्यापारी को अपडेट करना होगा। 8. उद्योगपतियों की बॉडी का चेयरमैन उद्योग मंत्री होगा। हर महीने मीटिंग में मुद्दे हल होंगे। 9. पंजाब के विकास में पार्टनर की भूमिका लें, छोटी और बड़े व्यापारियों को साथ लेकर काम होगा। 10. पंजाब की कानून व्यवस्था को मजबूत करेंगे। बॉर्डर स्टेट होने के कारण यह जरूरी है।

खबरें और भी हैं...