• Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Jalandhar
  • Trains Increased But Waiting Did Not Happen, Confirmed Tickets Were Received After One To Two Months And A Half, Private Vehicles Were Returned Home

सिटी स्टेशन से लाइव:ट्रेनें बढ़ीं पर वेटिंग नहीं घटी, डेढ़ से दो महीने बाद मिल रही कंफर्म टिकट, निजी वाहन कर वापस जा रहे घर

जालंधर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सिटी स्टेशन पर अपने गांव जाने वाले यात्रियों की लगी भीड़, जो शादी व फसल की कटाई के लिए जा रहे हैं। - Dainik Bhaskar
सिटी स्टेशन पर अपने गांव जाने वाले यात्रियों की लगी भीड़, जो शादी व फसल की कटाई के लिए जा रहे हैं।
  • 50% यात्री परिवार में शादी के लिए जा रहे, 25% फसल की कटाई व 25 जरूरी काम को

सिटी स्टेशन पर भीड़ देखकर लग रहा था कि लोग लॉकडाउन के डर से पलायन करना शुरू कर रहे हैं। लेकिन जब उनसे बातचीत की गई तो पता चला कि पंजाब के हालात अभी काफी सामान्य हैं। दूसरे राज्यों से अभी काफी बातें सुनने को मिल रही हैं। लेकिन वे अपने गांव शादी ब्याह के लिए और फसल की कटाई के लिए जा रहे हैं।

कई यात्रियों ने बताया कि उनके घर में मां बीमार है। भाई गुजर गया है और जमीन का काम करवाना है। इसलिए जा रहे हैं। यात्रियों से बातचीत के दौरान ये बात सामने आई कि 50 प्रतिशत यात्री ऐसे हैं जो परिवार में शादी के लिए वापस अपने गांव जा रहे हैं और 25 प्रतिशत यात्री ऐसे थे, जो फसल की कटाई के लिए जा रहे थे और 25 जरूरी काम के लिए। जो यात्री इस समय गांव वापस जा रहे हैं। उन्होंने दो महीने से लेकर चार महीने पहले टिकट बुक करवाई थी। क्योंकि तब ट्रेनों की संख्या कम थी। रेलवे ने यात्रियों की सहूलियत के लिए टिकट काउंटरों की संख्या भी बढ़ा दी है, ताकि लंबी लाइन न लग सके और यात्री तुंरत अपनी टिकट बुक करवा कर वापस चला जाए। गांव जाने वाले यात्री टिकट बुकिंग के लिए स्टेशन पहुंच रहे हैं।

बहराइच जाने वालों ने ट्रक बुक करवा 3 लड़कियों के दहेज का सामान भरा, खुद बस से गए

दो महीने तक नहीं आई बारी : मनोज कुमार

सिटी स्टेशन पर छपरा व समस्तीपुर के लिए टिकट बुक करवाने आए मनोज कुमार ने बताया कि उन्हें किसी जरूरी काम के लिए 23 अप्रैल को वापस जाना है। मगर कर्मभूमि में इतनी ज्यादा वेटिंग चल रही है कि दो महीने तक बारी नहीं आएगी। उन्होंने सोचा कि जननायक एक्सप्रेस में बुकिंग करवा लें या फिर सरयू यमुना एक्सप्रेस में ताकि वे स्टेशनों से गांव के लिए ट्रेन पकड़ सकें। इन ट्रेनों में भी बुकिंग नहीं हो पाई। शुक्रवार को चलने वाली कर्मभूमि में सबसे ज्यादा भीड़ होती है। मगर रेलवे उतनी ही सीटों पर यात्रियों को बिठा रहा है। जितनी ट्रेन में होती है।

ट्रेनों की संख्या बढ़ी, साथ में रिजर्वेशन की भी

लाडोवाली रोड पर अपनी बेटी व बहन की शादी का सामान ट्रक में लोड कर रहे मनोज तिवाड़ी ने बताया कि बहराइच जाना है। ट्रेनों में दो महीने की वेटिंग चल रही है। शादी का सामान भी लेकर जाना है। उनके ही गांव में दो और शादियां रखी हुई हैं। वे भी लड़कियों की। जब उन्होंने बाकी लोगों से बात की तो उन्‍होंने फैसला किया कि वे ट्रक में दहेज का सामान लोड करवा देंगे और खुद बस करके चले जाएंगे। क्योंकि ट्रेनों में जगह नहीं मिल रही है।

इन ट्रेनों में अधिक वेटिंग
जननायक एक्सप्रेस (05212) जालंधर से दरभंगा, सरयू यमुना एक्सप्रेस (04650) अमृतसर जयनगर और न्यू जलपाईगुड़ी कर्मभूमि एक्सप्रेस जालंधर से छपरा समस्तीपुर जाने वाली ट्रेनों में डेढ़ से दो महीने की वेटिंग चल रही है। सिटी स्टेशन में केवल उन यात्रियों को ही एंट्री दी जा ही है। जिनके पास ट्रेन की टिकट है। अगर किसी यात्री के परिजन ने अंदर जाना है तो वे 50 रुपए का प्लेटफार्म टिकट लेकर जा सकता है। लेकिन प्लेटफार्म टिकट मंहगा होने के कारण नाममात्र ही लोग अंदर जा रहे हैं।

खबरें और भी हैं...