पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

प्राइवेट कंपनियों को फायदा पहुंचा रही सरकार:ट्रांसपोर्ट विभाग के कच्चे मुलाजिमों की हड़ताल, सारा दिन भटकते रहे यात्री

जालंधर22 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

पनबस और पीआरटीसी के कच्चे मुलाजिमों ने सोमवार से बेमियादी हड़ताल शुरू की। हड़ताल के कारण सारा दिन यात्री भटकते रहे। 29 डिपो के कच्चे मुलाजिमों ने अपने-अपने डिपो में प्रदर्शन किया। जालंधर डिपो-1 में यूनियन नेता गुरप्रीत सिंह और दलजीत सिंह ने कहा कि सरकार रोडवेज को खत्म करना चाहती है। हर पांच साल में सिर्फ एक बार सरकारी बसें खरीदी जाती हैं। िजले में रोडवेज की िसर्फ 17 बसें अपनी आयु पूरी कर चुकी हैं। जालंधर डिपो-1 में महज 8 और डिपो-2 में 5 के करीब पक्के ड्राइवरों की तरफ से बसों को आनरूट रखा गया।

कंडम बसों को मुख्य रूट पर उतार दिया

पंजाब रोडवेज के पास 250 के करीब बसें हैं। ज्यादातर खस्ताहाल हैं। इन्हें आम दिनों में गांवों के रूट पर चलाया जाता है। हड़ताल के चलते खस्ताहाल बसों को लुधियाना, अमृतसर, बटाला सहित अन्य प्रमुख रूटों पर उतारा गया। बसों की कंडीशन इतनी खराब है कि सफर करना खतरे से खाली नहीं है। वहीं फ्री सफर के लिए बस स्टैंड पर महिलाओं की भीड़ रही। योजना का लाभ उठाने के िलए उन्हें लाइनों में लगकर बसों में एंट्री मिली। बेमियादी हड़ताल के कारण परेशान हो रहे यात्रियों को जल्द राहत के आसार नहीं हैं।

खबरें और भी हैं...