• Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Jalandhar
  • Trial In Villages For The First Time, Speed, Arm And Shoulder Strength, Jump Skills Of Children Of 6 Years And Above Will Be Seen

शानदार पहल:पहली बार गांवों में ट्रायल, 6 साल या अधिक उम्र के बच्चों की स्पीड, आर्म और शोल्डर स्ट्रेंथ, जंप स्किल देखी जाएगी

जालंधर14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • प्रतिभा की तलाश के लिए एजुकेशन विभाग करेगा खेल विभाग के कोचों को सहयोग

सूबे में खिलाड़ियों को खेल के साथ जोड़ने और टैलेंट की पहचान करने के लिए अब खेल विभाग और एजुकेशन विभाग मिलकर काम करेंगे। पहली बार हर गांव में ट्रायल लेने के लिए कोच पहुंचेंगे। इसका रोडमैप तैयार हो गया है और डायरेक्टर (स्पोर्ट्स) ने एजुकेशन विभाग के सेक्रेटरी को पत्र भेज दिया है। यह फैसला बीते दिनों खेल व एजुकेशन मंत्री गुरमीत सिंह मीत हेयर की मीटिंग में हुआ था जिस पर अमल होना शुरू हो गया है। पंजाब खेल विभाग की ओर से अलग-अलग खेल सेंटरों-स्पोर्ट्स विंग (डे-स्कॉलर व रेजिडेंशियल) में करीब 10 हजार खिलाड़ियों को रखा जाता है।

खिलाड़ियों की संख्या बढ़ाने के लिए खेल व एजुकेशन विभाग के कोच टैलेंट सर्च की प्रक्रिया शुरू करेंगे। इसके तहत 2 कोच अपने-अपने जिले के गांव-गांव जाकर 6 साल या फिर इससे अधिक उम्र के बच्चों के ट्रायल लेंगे और मुख्य ऑफिस की तरफ से तैयार की जा रही गूगल स्प्रेड शीट में उनकी परफारमेंस भरेंगे। इसके लिए सहायक डायरेक्टर युवक सेवाएं, जिला शिक्षा अधिकारी सहित स्कूलों के प्रिंसिपल सीधे रूप से जिला खेल अधिकारी को सहयोग करेंगे। विभाग की तरफ से यह कार्य शुक्रवार से शुरू किया है।

खबरें और भी हैं...