• Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Jalandhar
  • Tricity Being Built In Doaba Due To New Housing Projects, 66 Feet And The City Moving Towards Nakodar From New Ring Road

नई ऊंचाई, नया जालंधर:नए हाउसिंग प्रोजेक्टों से दोआबा में बन रहा ट्राइसिटी, 66 फुटी और नई रिंग रोड से नकोदर की तरफ बढ़ रहा शहर

जालंधर12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
जालंधर-फगवाड़ा नेशनल हाईवे का एंट्री पॉइंट।    फोटो : दीपक - Dainik Bhaskar
जालंधर-फगवाड़ा नेशनल हाईवे का एंट्री पॉइंट। फोटो : दीपक
  • दिल्ली-जम्मू-कटरा-अमृतसर एक्सप्रेस वे के लिए जमीन अधिग्रहण का प्रोसेस पूरा, विवादों की सुनवाई कर बंटेगा मुआवजा

ये बदली हुई तस्वीर जालंधर शहर की है। कभी रामामंडी तक घनी आबादी खत्म हो जाती थी और परागपुर चुंगी तक हाईवे के दोनों तरफ खेत ही दिखते थे। अब मल्टीस्टोरी अपार्टमेंट बन चुके हैं। आधा दर्जन प्रोजेक्टों की नींव अलग से तैयार है। इसी तरह परागपुर चुंगी से कैंट की तरफ बढ़ें तो आर्मी एस्टेब्लिशमेंट के अलावा ग्रामीणों के घर व खेत ही दिखते थे। अब वहां मल्टीस्टोरी अपार्टमेंट की हब दिख रही है।

जालंधर का शहरीकरण एक तरफ कपूरथला सिटी से और दूसरी तरफ फगवाड़ा सिटी से जुड़ गया है। नई रिंग रोड के लिए जमीन लेने का प्रोसेस शुरू होने जा रहा है। स्मार्ट सिटी की लागत से अर्बन एस्टेट से प्रतापपुरा तक नया बायपास अगले साल की शुरुआत में सेवाएं देने लगेगा। इससे नकोदर की तरफ शहरीकरण बढ़ेगा। इसे जम्मू-कटरा-अमृतसर एक्सप्रेस वे प्रोजेक्ट तेजी देगा, क्योंकि फिल्लौर से होकर यह एक्सप्रेस वाया नकोदर गोईंदवाल साहिब से होकर गुजरेगा।

ऐसे बढ़ा है जालंधर का दायरा

1. कैंट के 13 गांवों में काॅलोनियां

विधायक परगट सिंह के खेल मंत्री बनने के बाद कैंट के 13 गांवों में सीवरेज-सड़क के काम युद्ध स्तर पर चालू किए जा रहे हैं। ये काम 2 साल से लंबित थे। कैंट के गांवों में नई कॉलोनियां बनेंगी। इससे जालंधर सिटी व नकोदर कस्बे के बीच का खाली इलाका है, वहां तक शहरीकरण होने से विकास की तस्वीर बदलेगी।

2. नया इंडस्ट्रियल जोन बन रहा

नए 4 रिजार्ट निर्माणाधीन हैं और साथ ही नूरपुर धोगड़ी में नया इंडस्ट्रियल जोन विकसित हुआ है। इससे शहरीकरण आदमपुर से जुड़ेगा।

3. 1000 करोड़ से हाईवे पर फ्लैट्स

हवेली रेस्तरां के पास नए आधा दर्जन हाउसिंग प्रोजेक्ट बनने जा रहे हैं। इनकी लागत 1000 करोड़ से ज्यादा है। ये जालंधर सिटी की हद से सटे हैं व जमीन फगवाड़ा की है। इस तरह दो शहरों का मिलन हो गया है।

4. रिंग रोड के लिए जमीन तैयार

नई रिंग रोड के लिए जिस जमीन प्राप्ति का प्रोसीजर अंतिम चरण में है, वह कंगसाबू के पास आकर खत्म होगी। जिसे सिटी के अंदर से गुजरने वाले हाइवे आपस में जुड़े होंगे। रिंग रोड के किनारे विकास करके सरकार ने जमीन खरीदने पर खर्च लागत को पूरा करना है।

चुनाव से पहले पूरा होगा सिविल एयरपोर्ट का निर्माण

वायु सेना हवाई अड्डे के साथ आदमपुर में बनाया जा रहा सिविल एयरपोर्ट का टर्मिनल अंतिम चरण में है। इसके बनने के बाद इंटरनेशनल फ्लाइट के स्वागत योग्य 2 एप्रेन चालू होंगे, जिससे बड़े जहाज उतर सकेंगे। जिक्रयोग है कि हवाई अड्‌डे के रूट को जोड़ने वाली सिंगल रोड को भी फोरलेन बनाने की योजना है।

खबरें और भी हैं...