पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

100 करोड़ से 4 वर्ष में बना था फ्लाईओवर:सर्विस रोड के निकासी नाले की पुली धंसने से पलटी रेत से भरी ट्रॉली

कोटकपूरा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • उद्घाटन के 18 दिन बाद फ्लाईओवर निर्माण में दिखीं खामियां

चार वर्ष के निर्माण कार्य के बाद 100 करोड़ से अधिक के खर्च से बनकर करीब 18 दिन पहले शुरू हुआ कोटकपूरा-फरीदकोट मुख्य मार्ग पर निर्मित फलाईओवर के निर्माण कार्य की खामियां उद्घाटन के 18 दिन बाद ही उजागर होने लगी हैं।

फलाईओवर की कोटकपूरा शहर की साइड वाली सर्विस रोड पर बरसाती पानी की निकासी के लिए बनाए गए नाले की कंक्रीट से बनी पुली एक रेत से भरी ट्राली के गुजरते ही बैठ गई। ट्राली का टायर नाले में धंसने के बाद रेत से भरी ट्राली सर्विस रोड पर ही पलट गई।

गौर हो कि गणेश कार्तिकेय कंस्ट्रक्शन कंपनी द्वारा निर्मित इस फलाईओवर व इसके दोनों और बनी चार सर्विस लेन के निर्माण कार्य पर करीब 100 करोड़ से अधिक राशि खर्च हुई। उधर, हाइवे विभाग के अधिकारी इंजीनियर मनप्रीतम ने कहा कि वह सोमवार को अधिकारियों को बुलाकर पूली का निर्माण दोबारा करवाया जाएगा।

12 दिन में ढह गई सर्विस लेन के नाले की पुली
फलाइओवर के निर्माण के दौरान दोनों और बनी सर्विस रोड से बरसाती पानी की निकासी के लिए निर्माण कंपनी द्वारा दो कंकरीट के नालों का निर्माण किया गया था जिसे कंकरीट से बनी स्लैबों से ढका गया था। निर्माण कंपनी द्वारा बनाई गई यह स्लैब निर्माण के 18 दिन के बाद धराशायी हो गई।

दरअसल सर्विस लेन पर बसे कोटकपूरा के प्रतान नगर के सडक पर पड़ते एक मकान का कई दिन से निर्माण कार्य चल रहा था व इसी निर्माण के लिए शुक्रवार को एक रेत से भरी ट्राली आई थी। लेकिन जैसे ही टाली नाले से ऊपर से गुजरने लगी अचानक नाले की स्लैब ध्वस्त हो गई। बाद में रेत के मालिक ने इसे जेसीबी से समेट कर इक्ट्ठा किया व ट्राली को नाले से निकाला। लेकिन इसकी सूचना कंपनी अथवा विभाग को देने की बजाए खुद ही मिट्टी डाल नाला बंद कर मुद्दा ही गायब कर दिया।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आसपास का वातावरण सुखद बना रहेगा। प्रियजनों के साथ मिल-बैठकर अपने अनुभव साझा करेंगे। कोई भी कार्य करने से पहले उसकी रूपरेखा बनाने से बेहतर परिणाम हासिल होंगे। नेगेटिव- परंतु इस बात का भी ध...

    और पढ़ें