नाबालिग की थाने में चप्पलों से पिटाई:युवक ने अस्पताल में कटवाई एमएलआर; फगवाड़ा थानेदार बोला- गलती से उठा लाए

फगवाड़ा/जालंधरएक महीने पहले
नाबालिग युवक लवप्रीत पुलिस पिटाई के दौरान कान के पीछे लगी चोट दिखाता हुआ।

जालंधर के साथ लगते फगवाड़ा शहर में एक नाबालिग को थाने में लाकर चप्पल से पिटाई करने का मामला सामने आया है। लड़के के सिर पर चप्पलें मारने से उसके कान के पीछे चोटें लगी हैं। इसके अलावा शरीर पर भी चोटों को निशान हैं। नाबालिग के परिजन उसे थाना सदर से छुड़वाकर सीधे सिविल अस्पताल फगवाड़ा में ले गए] जहां पर उन्होंने लड़के की मेडिकल लीगल रिपोर्ट (एमएलआर) बनवा ली। जबकि थाने वालों का कहना है कि वह युवक को गलती से उठा लाए थे, जब उन्हें पता चला कि वह इनोसेंट है तो उसे छोड़ दिया गया।

पीड़ित युवक लवप्रीत निवासी खंगूड़ा ने बताया कि वह अपने घर पर पशुओं का पेड़ा लेकर दूध निकालने जा रहा था कि इतने में ही वहां पर पुलिस आ धमकी। जिसमें एक थानेदार कमलजीत सिंह था। उन्होंने पहले मुझसे मेरे बड़े भाई के बारे में पूछा। जब कहा कि मुझे नहीं मालूम वो कहां पर है औऱ आप उसके बारे में क्यों पूछ रहे हैं। इस थानेदार ने गंदी-गंदी गालियां निकालनी शुरू कर दी और उसे मोटरसाइकिल पर बैठाकर सदर थाने में ले गए।

भाई का पता पूछकर पीटते रहे

लवप्रीत ने बताया कि थानेदार कमलजीत और उसके साथ एक मुलाजिम और था, ने थाने के अंदर जाकर अपनी चप्पल खोलने के लिए कहा। लवप्रीत ने कहा कि उसने चप्पल खोल दीं। इसके बाद थानेदार के साथ को मुलाजिम था, उसने पीछे से उसके बाजू पकड़ लिए। इसके बाद थानेदार ने उसकी ही चप्पल से मेरी बुरे तरीके से पिटाई शुरू कर दी। इसी बीच मुझे अपने भाई को फोन करने के लिए कहा। युवक ने कहा कि उसने अपने रिश्तेदारी में भाई को फोन किया और कहा कि उसे पुलिस थाने में पकड़ कर ले आई है और उसे चप्पल से पीटा जा रहा है। इसके बाद फिर से पुलिस वालों ने उसे घसीटा और चप्पल से पीटा।

सब इंस्पेक्टर कमलजीत सिंह अपना पक्ष बताते हुए।
सब इंस्पेक्टर कमलजीत सिंह अपना पक्ष बताते हुए।

लवप्रीत ने कहा कि वह पूछ रहा था कि उसे क्यों पीट रहे हैं। लेकिन पुलिस वाले बार-बार एक ही बात कह रहे थे कि अपने भाई का पता बता। युवक के अनुसार जैसे ही वो मना करता कि उसे पता नहीं है, तो फिर से उसकी पिटाई शुरु कर देते। फोन के बाद लवप्रीत के रिश्तेदार थाने में पहुंचे और उसे छुड़ाकर ले गए।

लवप्रीत ने कहा कि वो दोनों भाई गांव में अकेले रहते हैं। उनके पिता की मौत हो चुकी है और माता विदेश में रहती हैं। वो दोनों पशुओं का काम करते हैं और दूध निकालकर बेचते हैं। पुलिस ने उनका मोटरसाइकिल भी जब्त कर लिया है।

पता चला तो छोड़ दिया

थाना सदर के सब इंस्पेक्टर कमलजीत सिंह नाबालिग को उठाकर लाया था, उससे पूछा गया तो उसने कहा कि गलती से युवक को उठा लाए थे। जब पूछा कि उन्हें नजर नहीं आया कि बच्चा नाबालिक है तो वह गोलमोल से जवाब देने लगे कि आजकल युवकों के नाबालिग या बालिग होने का पता नहीं चलता।थाने में आकर पता चला कि गलत युवक उठा लाए हैं। कमलजीत सिंह ने कहा कि इसके बड़े भाई के खिलाफ अपने ही रिश्तेदारों से मारपीट करने का मामला दर्ज है। उसे कई बार बुलाया पर वह थाने में नहीं आता। उसे पकड़ने गए थे लेकिन गलती से छोटे भाई को पकड़ लाए। जब पूछा कि मामला कब का है तो बोले कि मामला नया नहीं है, बल्कि पुराना ही है लेकिन वह पेश नहीं रहा था।