पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Jalandhar
  • Unfulfilled Lovers Could Not Be Settled, Because Only 11 Feet Road Was Given As Saying 40 Feet, Now Mischievous Elements Are Occupying

अंधेरगर्दी:अधूरे आशियाने नहीं हो सके आबाद, क्योंकि 40 फीट कहकर 11 फीट रोड ही दी गई, अब शरारती तत्व कर रहे कब्जा

जालंधर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • जेआईटी ने 2009 में लोअर इनकम ग्रुप के लिए 36 करोड़ की लागत से बनाए फ्लैट

जालंधर इंप्रूवमेंट ट्रस्ट द्वारा 2009 में लोअर इनकम ग्रुप के लिए 36 करोड़ की लागत से सलेमपुर मुसलमाना में 13.97 एकड़ जमीन पर 888 फ्लैट्स तैयार किए गए थे। फ्लैट्स में मूलभूत सुविधाएं न मिलने के कारण मालिकों ने फ्लैट्स में रहना मुनासिब नहीं समझा और न ही जेआईटी द्वारा फ्लैट्स का रखरखाव सही ढंग से किया। अब इन फ्लैट्स में आए दिन कब्जे हो रहे हैं और लड़ाई भी।

इंदिरापुरम कॉलोनी फ्लैट्स (मास्टर गुरबंता सिंह एनक्लेव) में 200 से अधिक लोग रहते हैं, जिनमें से ज्यादातर वे लोग हैं, जिन्होंने फ्लैट्स के ताले तोड़ कर कब्जा किया हुआ है और सरेआम बिजली चोरी कर रहे हैं। इसके बारे में न तो पावरकॉम ध्यान दे रहा है और न ही जेआईटी।

ज्यादातर अलॉटी एनआरआई हैं या फिर दूसरे जिलों से हैं। इस कारण वे अपने फ्लैट्स की देखभाल नहीं कर पा रहे हैं और शरारती तत्व कब्जे कर रहे हैं। अलॉटियों ने कहा कि जब फ्लैट लिया था तब उन्हें कहा गया था कि 40 फीट की अप्रोच रोड फ्लैट्स की तरफ दी गई है, लेकिन 11 फीट चौड़ी ही रोड मिली। सीवरेज सिस्टम भी नहीं है और न ही बिजली का प्रबंध है।

कर्मचारी कॉलोनी में जाने से डरते हैं कि कहीं लोग हमला न कर दें

कॉलोनी में कुछ घरों में मीटर लगे हुए हैं, जिन्हें बिल भी एवरेज के हिसाब से आ रहा है। पावरकॉम कर्मचारी भी इस कॉलोनी मे जाने से डरते हैं कि कहीं लोग उनके गले में ही न पड़ जाए। फ्लैट्स में रह रहे लोगों ने कहा कि वे मकान मालिकों को 1000 रुपए किराया महीने का देते हैं और बिजली का बिल वे अलग से दे रहे हैं। कुछ लोगों के घरों में मीटर नहीं लगे हुए हैं जो सीधी कुंडी डालकर बिजली चोरी कर रहे हैं।

अलॉटी ने बताया- 2 साल बाद आया तो देखा- किसी ने लगा रखा है ताला

लोहियां से जालंधर अपने फ्लैट्स को देखने पहुंचे मनदीप सिंह ने बताया कि वे साल दो साल बाद आते हैं, लेकिन जब उन्हें पता लगा कि फ्लैट्स पर कब्जे हो रहे हैं तो वे तुंरत जालंधर पहुंचे। जब उन्होंने अपने फ्लैट का ताला खोलना चाहा तो खुला नहीं। बाद में पता लगा कि उनके फ्लैट्स पहले से ही किसी ने कब्जा कर लिया है और उक्त व्यक्ति ने साथ में लगते अन्य दो फ्लैट्स पर भी कब्जा किया हुआ है। जेआईटी ने न तो कॉलोनी को आबाद किया और न ही सुविधाएं दी।

फ्लैट गरीबों को अलॉट न होकर अमीरों ने खरीदे

सलेमपुर-मुसलमाना निवासी भूपिंदर कुमार ने बताया कि लिद्दड़ां और सलेमपुर के बीच बने लोअर इंकम ग्रुप के फ्लैट्स केवल गरीबों के लिए ही अलॉट किए जाने थे, लेकिन अमीरों ने खरीद लिए। अब ज्यादातर पर कब्जा हुआ पड़ा है। नशेड़ियों का गढ़ बन चुका है और बिजली चोरी को रोकने वाला कोई नहीं है।

जल्द मिलेंगी सुविधाएं: आहलूवालिया

इंप्रूवमेंट ट्रस्ट के चेयरमैन दलजीत सिंह आहलूवालिया ने कहा कि इंदिरापुरम फ्लैट्स की तरफ जाती अप्रोच रोड को चौड़ा करने के लिए साथ लगती जमीन मालिकों के साथ मीटिंग की जा चुकी है जल्द ही राहत मिलेगी। कॉलोनी में जो मूलभूत सुविधाएं रहती हैं और सुधार होने वाला है उनको भी ठीक करवाया जाएगा।

बिजली चोरी करने वालों को नहीं बख्शेंगे

डिप्टी चीफ इंजीनियर हरजिंदर सिंह बंसल ने कहा कि किसी हालत में भी बिजली चोरी करने वाले को नहीं बख्शा जाएगा। अगर इंदिरापुरम कॉलोनी में सरेआम बिजली चोरी हो रही है तो लोगों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी और जुर्माना लगाया जाएगा।

खबरें और भी हैं...