सांसों पर प्रदूषण संकट:पटाखों के धुएं से एक्यूआई का स्तर 104 पहुंचा सांस लेने में दिक्कत, सिविल में दाखिल हुए 3 मरीज

पठानकोट23 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • दिवाली की खुशी में लोगों ने खूब चलाए पटाखे, डब्ल्यूएचओ की गाइडलाइन से 3.5 गुना खराब हुई शहर की हवा

दीवाली की रात को जमकरकर आतिशबाजी हुई और पटाखों से निकले धुएं की वजह से शुक्रवार को प्रदूषण का स्तर 104 एक्यूआई नापा गया, जबकि हवा की शुद्धता की मात्रा डब्ल्यूएचओ की गाइडलाइन से 3.5 गुणा ज्यादा प्रदूषित रही है जोकि दमा के मरीजों के लिए काफी हानिकारक मानी गई है। शुक्रवार को सिविल अस्पताल की इमरजेंसी में सांस लेने में दिक्कत के 3 मरीजों को भर्ती कराया गया। हालांकि इलाज के बाद मरीजों को छुट्‌टी दे दी गई। पर्यावरण खराब होने से बच्चों और बुजुर्गों के प्रति सतर्कता बरतने की जरूरत है।

अच्छी सेहत के लिए कितनी होनी चाहिए एक्यूआई

पटाखों की गर्माहट से तापमान .3 डिग्री ज्यादा रहा है। अधिकतम तापमान 29.4 डिग्री और न्यूनतम 11 डिग्री रिकॉर्ड किया गया है। बारिश से राहत मिल सकती है, लेकिन 5 दिनों तक बारिश के आसार नहीं हैं।

खबरें और भी हैं...