पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

छूट की मांग:कारोबारी बोले...दुकान खोलने को 12 घंटे का समय मिला, हमें भी दोपहर 12 से रात 11 बजे तक होटल इंडस्ट्री चलाने की छूट दी जाए, ताकि कारोबार चल सके

पठानकोटएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • शहनाई की धुन रात 8 बजे तक }शादी का सीजन शुरू लेकिन गाइडलाइंस के फैसले से होटल, रेस्टोरेंट, मैरिज पैलेस चलाने वाले सहमत नहीं

कोरोनाकाल के दौरान सरकार द्वारा थोड़ा ढील दिए जाने के बाद भले ही डेढ़ साल से शादी समारोह का आनंद उठाने से वंचित लोगों को अब जश्न मनाने की उम्मीद बंधी हो, लेकिन सरकार के इस फैसले से होटल, मैरिज पैलेस, रेस्टोरेंट कारोबारी खुश नहीं हैं। कारोबारियों का कहना है कि सरकार के उम्मीद थी कि जल्द ही सरकार के नए फरमान से होटल इंडस्ट्री की बंद हो रही सांसे चल पडेंगी। लेकिन ऐसा नहीं हुआ।

सरकार ने दुकानदारों को दिन में 12 घंटे यानि सुबह 7 बजे से लेकर शाम 7 बजे तक दुकान खोलने की छूट दी है जबकि होटल इंडस्ट्री को सुबह 10 बजे से लेकर शाम 7 बजे तक ही काम करने का फरमान जारी किया गया है जो 12 घंटों से भी कम है। कारोबारियों की डिमांड है कि डेढ़ साल के बाद यदि सरकार ने होटल इंडस्ट्री चलाने का मौका दिया है तो समय में बदलाव किया जाए।

टाइमिंग दोपहर 12 बजे से रात 11 बजे तक की जाए, क्योंकि डिनर के लिए अधिकतर कस्टमर रात को ही निकलते हैं दिन में धूप के कारण कस्टमर घर से बाहर नहीं निकलता। 20 से 25 दिन शादियों का सीजन है इसके बाद यह भी बंद हो जाएंगी। उन्होंने कहा कि सरकार की रियायत से हालांकि 50 फीसदी की शर्त पर समारोह में सीमित लोगों के एकत्र होने की शर्त से होटल, मैरिज पैलेस हाल, बिजली, साफ सफाई और कर्मचारियों के वेतन का खर्च भी निकालना मुश्किल होगा। उन्होंने सरकार से डिमांड की है कि होटल इंडस्ट्री, मैरिज पैलेस, रेस्टोरैंट चलाने को कम से कम 200 लोगों के गैदरिंग की छूट दी जाए।
15 जुलाई तक शादी के मुहूर्त
आचार्य भगवती प्रसाद शास्त्री ने कहा कि विवाह शादियों का सीजन 18 जून से शुरू होकर 19, 20, 21, 24, 26,27, 28 व 30 तक रहेगा इसके बाद जुलाई महीने में 1, 2, 3, 4, 6 व 15 जुलाई को आखिरी शुभ मुहूर्त है। इसके बाद अक्तूबर महीने में कार्तिक पुण्या को शादियों का शुभ मुर्हूत है। उन्होंने बताया कि 15 जुलाई के बाद भगवान विष्णु शयन में चले जाते हैं चतुर मास की शुरूआत होती है तब मांगलिक कार्य पर रोक लग जाती है लेकिन इस परंपरा को कुछ लोग मानते हैं और कुछ नहीं भी।
रात 11 बजे तक मिलनी चाहिए छूट
होटल इंडस्ट्री एसोसिएशन के प्रधान राकेश औल ने कहा कि सरकार नहीं चाहती कि होटल इंडस्ट्री चले तभी तो दुकानदारों को 12 घंटे और हमें 11 घंटे भी नहीं दिए सुबह 10 से लेकर दिया सांय 7 बजे तक का समय जो कि दौपहर कम से कम 12 से लेकर रात 11 बजे तक होना चाहिए।
इतने कम समय में खर्च निकालना मुश्किल
व्यापार मंडल के प्रधान इंद्रजीत गुप्ता ने कहा कि इतने कम समय में तो मैरिज पैलेस, कर्मचारियों का वेतन और अन्य खर्च निकालना मुश्किल है। सरकार को चाहिए कि मैरिज पैलेस में विवाह शादियों के सीजन को देखते हुए रात को टाइम थोड़ा बढ़ाया जाना चाहिए।
200 लोगों के इकट्‌ठा होने की परमिशन दी जाए ढांगू रोड पर होटल गैंड के मालिक देवेंद्र सिंह मिंटू ने कहा कि सरकार ने 50 फीसदी गैदरिंग को परमिशन दी है जो कि बेहद कम है इससे खर्च निकालना भी मुश्किल है कम से कम 200 की गैदरिंग होनी चाहिए।

खबरें और भी हैं...