पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

प्रवचनों से श्रद्धालुओं का किया मार्गदर्शन:अपनी कमियों को ताकत बना विघ्नहर्ता बने गजानन

नंगल सिटी12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

नया नंगल स्थित अजोली मोड़ में श्री गणेशोत्सव को हर वर्ष की तरह बड़ी धूमधाम से मनाया जा रहा है। श्री गणेश चतुर्थी महापर्व को लेकर पूरे इलाके के लोगों में उत्साह का माहौल है। सार्वजनिक पूजा पंडालों व घरों में श्रद्धालुओं द्वारा गणेश जी की प्रतिमाएं स्थापित कर पूजा अर्चना की जा रही है। मंदिरों व सार्वजनिक पंडालों को आकर्षित रूप में सजाया गया है। अजौली मोड़ क्षेत्र में मुख्य पंडाल में इस साल भी गणेश पूजा का आयोजन किया जा रहा है। श्री गणेश जी की आराधना विधिवत तौर पर जारी है और श्रद्धालु बड़ी संख्या में उमड़ रहे हैं।

सोमवार रात राष्ट्रीय संत बाबा बाल ने अजौली मोड़ में सजे श्री गणेश मंडाल में श्रद्धालुओं का मार्गदर्शन करके उनकी भक्ति सागर में डुबकी लगवाई। उन्होंने प्रवचन करते हुए श्री गणेश जी को विघ्नहर्ता के रूप के बारे में विस्तार से बताया। उन्होंने कहा की गणेश के पास हाथी का सिर, मोटा पेट और चूहा जैसा छोटा वाहन है लेकिन इन समस्याओं के बाद भी वे विघ्नविनाशक, संकटमोचक की उपाधियों से नवाजे गए हैं। कारण यह है कि

उन्होंने अपनी कमियों को कभी अपना नकारात्मक पक्ष नहीं बनने दिया बल्कि अपनी ताकत बनाया। उनकी टेढ़ी-मेढ़ी सूंड बताती है कि सफलता का पथ सीधा नहीं है। यहां दाएं-बाएं खोज करने पर ही सफलता और सच प्राप्त होगा। हाथी की भांति चाल भले ही धीमी हो लेकिन अपना पथ अपना लक्ष्य न भूलें। उनकी आंखें छोटी लेकिन पैनी है, यानी चीजों का सूक्ष्मता से विश्लेषण करना चाहिए। कान बड़े है यानी एक अच्छे श्रोता का गुण हम सब में हमेशा होना चाहिए। संत बाबा बाल महाराज ने कहा कि ऐसेे आयोजनों से आपसी एकता व भाईचारा और मजबूत होता है।

खबरें और भी हैं...