सजगता ही उपाय:1 पॉजिटिव मिला ताे 48 घंटे के लिए स्कूल बंद कर सैनिटाइज करना होगा, 2 मिले तो 14 दिन बंद रहेगा

पठानकोट2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कोरोना की तीसरी लहर की आहट के बीच स्कूल खुलने पर आर्य ब्वॉयज सीनियर सेकेंडरी स्कूल में क्लास अटेंड करते स्टूडेंट। (फाइल फोटो) - Dainik Bhaskar
कोरोना की तीसरी लहर की आहट के बीच स्कूल खुलने पर आर्य ब्वॉयज सीनियर सेकेंडरी स्कूल में क्लास अटेंड करते स्टूडेंट। (फाइल फोटो)
  • सोमवार से 100 में से 1 बच्चे का होगा कोरोना टेस्ट
  • कोरोना की तीसरी लहर की आहट के बीच केसों को रोकने के लिए सरकारी स्कूलों को निर्देश
  • जिन स्कूलों में बच्चों की संख्या ज्यादा है वहां के स्कूलमुखी अपने हिसाब से दो शिफ्ट में स्टूडेंट्स को बुला सकते हैं

पंजाब सरकार के फैसले के मुताबिक 2 अगस्त से सूबे में पूरी तरह से स्कूल खोल दिए गए हैं। कोरोना की तीसरी लहर की आहट के बीच बच्चों में कोरोना के केस बढ़ने से रोकने के लिए सरकार ने जिला शिक्षा अधिकारी (डीईओ) से लेकर स्कूल मुखियों की जिम्मेदारी तय की है।

अब स्कूल आने वाले हर 100 के पीछे 1 विद्यार्थी व शिक्षक का रोजाना टेस्ट कराना होगा और टेस्ट में 1 पॉजिटिव केस आने पर स्कूल को 48 घंटे के लिए बंद कर सैनेटाइज किया जाएगा और 2 पॉजिटीव केस मिलने पर स्कूल पूरे 14 दिन के लिए क्वारेंटाइन कर बंद कर दिया जाएगा। टेस्टिंग की जिम्मेदारी डीईओ की होगी। इसके साथ ही ज्यादा विद्यार्थियों वाले स्कूलों को दो शिफ्टों में लगाने की हिदायतें भी जारी की गई हैं और सुबह की सभा नहीं लगाने की छूट भी दी गई है।

रोजाना क्लास लगाने का निर्देश

शिक्षक का भी होगा टेस्ट, हर कमरे में 25 से 30 विद्यार्थी बैठेंगे
डायरेक्टर एजूकेशन ने स्कूल मुखियों को पांचवीं, आठवीं, दसवीं और बारहवीं क्लास हर रोज लगाना यकीनी बनाने के निर्देश दिए हैं और यदि विद्यार्थियों की संख्या ज्यादा है और कमरे कम हैं तो स्कूल मुखी अपने स्तर पर दो शिफ्टों में स्टूडेंट्स को बुला सकते हैं।

इसके साथ ही प्रत्येक कमरे में 25 से 30 विद्यार्थी ही बैठाए जाएं और प्रत्येक बेंच पर एक विद्यार्थी बैठे, ताकि उनके बीच सामाजिक दूरी बनी रहे। मिड-डे-मील का खाना भी अलग-अलग क्लास के विद्यार्थियों को अलग-समय पर परोसा जाए। डीईओ की जिम्मेदारी रोजाना आने वाले 100 में से एक विद्यार्थी का कोरोना टेस्ट कराने की लगाई गई है। टेस्टिंग का डाटा स्कूल लॉगइन आईडी कोविड रिपोर्ट लिंक पर दर्ज की जाए।

कोरोना टेस्ट करवाने के लिए टीम का होगा गठन
डिप्टी डीईओ राजेश्वर सलारिया ने बताया कि स्कूलों में आने वाले विद्यार्थियों के कोरोना टेस्ट कराने के लिए टीमों का गठन किया जा रहा है और सोमवार से हेल्थ अथारिटी से बात कर टेस्ट शुरू करा दिए जाएंगे।

तीसरी लहर से निबटने के लिए सिविल अस्पताल में तैयारी पूरी

बच्चों के लिए बनाया 24 बेड का यूनिट, इनमें से दो वेंटिलेटर वाले
कोरोना की तीसरी लहर को लेकर सेहत विभाग द्वारा सिविल अस्पताल में लेवल-2 के 115 बेड और लेवल-3 के 10 बेड आरक्षित किए गए हैं। बच्चों के लिए 24 बेड का पिडियाट्रिक यूनिट बनाया गया है, जिसमें दो बेड वेंटिलेटर के हैं। एसएमओ डाॅ. राकेश सरपाल ने बताया कि बच्चों के स्पेशलिस्ट 3 डाॅक्टरों की ट्रेनिंग भी कराई जा चुकी है। बता दें कि जिले में 2020 और 2021 अब तक करीब 50 से अधिक एक महीने से 14 वर्ष तक के बच्चे कोरोना पाॅजिटिव मिल चुके हैं। सेहत विभाग के अधिकारियों का दावा है कि कोरोना पाॅजिटिव किसी भी बच्चे की मौत नहीं हुई है।

खबरें और भी हैं...