पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

फंगस की फंस:लोगों में ब्लैक फंगस का डर, गर्मी से आंखों में एलर्जी रोजाना 10 से 15 मरीज पहुंच रहे सिविल अस्पताल

पठानकोट22 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
सिविल अस्पताल में मरीजों की आंखों की जांच करती डाक्टर। - Dainik Bhaskar
सिविल अस्पताल में मरीजों की आंखों की जांच करती डाक्टर।
  • डॉक्टर की सलाह-सिर्फ आंखें लाल होना ब्लैक फंगस नहीं, बिना वजह पैनिक न हों

जिले में कोरोना के साथ-साथ अब लोगों को ब्लैक फंगस वायरस का डर भी सताने लगा है। हालांकि सेहत विभाग के अधिकारियों का दावा है कि पठानकोट जिले में ब्लैक फंगस का अभी तक कोई केस सामने नहीं आया है। वहीं मौसम में हुए बदलाव को लेकर आंखों में एलर्जी होने पर रोजाना 10 से 15 लोग सिविल में आंखों की जांच करवाने पहुंच रहे हैं। हालांकि डाॅक्टर्स ने लाेगाें काे बिना वजह परेशान न होने की सलाह दे रहे हैं। डाक्टर्स की माने तो पिछले एक सप्ताह से रोजाना 10 से 15 लोग आंखों में एलर्जी होने पर जांच कराने पहुंच रहे हैं। जबकि किसी में भी ब्लैक फंगस के लक्षण नहीं मिले हैं।

सिविल अस्पताल के आंखों के स्पेशलिस्ट डाॅ. रमेश डोगरा का कहना है कि लोग बिना वजह पैनिक न हो। सोशल साइट पर वायरल हो रही वीडियो और इंटरनेट पर लक्षण सर्च कर पैनिक हो रहे हैं। जबकि लोगों को इंटरनेट पर लक्षण सर्च करने की बजाए संबंधित चिकित्सक से सलाह लेनी चाहिए, ताकि स्थिति को स्पष्ट किया जा सके। उधर डाॅक्टर्स का कहना है कि जिन लोगों को डायबिटीज है और वह कोरोना से संक्रमित हो गए हैं, उन पर ब्लैक फंगस के अटैक का खतरा ज्यादा रहता है।

पैनिक होने की जरूरत नहीं, आंखों में जलन हो तो कुछ समय के लिए पलकें बंद कर लें : डॉ. रमेश

ब्लैक फंगस इम्यून सिस्टम कमजोर वाले शुगर लेवल ज्यादा, कैंसर किडनी एवं लीवर संबंधी मरीजों पर ज्यादा हमला करता है। इसके लक्षण आंखों में सूजन, चेहरे पर निशान, चमड़ी का काला हो जाना, दांतों में दर्द और जबड़े का हिलना आदि है। सामान्य तौर पर यह बीमारी हर किसी को नहीं होती। इसलिए बहुत ज्यादा पैनिक करने की जरूरत नहीं है। आंखों में ज्यादा जलन हो तो पलकों को कुछ समय के लिए बंद कर लें।
ब्लैक फंगस के शुरुआती लक्षण

  • चेहरे के किसी भाग में असहनीय दर्द हो सकता है
  • चेहरे के किसी भाग में सूजन होना
  • आंखों में गहरा लालीपन आना
  • देखने में दिक्कत, सांस लेने में परेशानी, नाक बंद होना, नाक से दुर्गंध आना, नाका से गाढ़ा लाल या काला खून आना

अपनी इम्युनिटी पाॅवर बढ़ाएं

डाक्टर्स के अनुसार शरीर की इम्युनिटी पावर बढ़ाए, भोजन में दाल, दूध, अंडा, मौसमी फल, साग व सब्जी का उपयोग करें। बिना डाॅक्टर की सलाह के एंटी बायोटिक दवा का उपयोग न करें। मरीजों को आक्सीजन लगाने के दौरान फ्लो मीटर में डिस्टिल वाटर का उपयोग होना चाहिए। कोरोना पाॅजिटिव से निगेटिव होने पर अपने व आसपास सफाई हो, प्रदूषण से बचना चाहिए। सुबह-शाम गर्म पानी से गारगल करें। कपड़े वाले मास्क का एक दिन उपयोग करने के बाद धोकर डाले।

खबरें और भी हैं...