विरोध / श्रम कानून में संशोधन के खिलाफ रोडवेज मुलाजिमों का रोष प्रदर्शन

Roadways workers protest against amendment in labor law
X
Roadways workers protest against amendment in labor law

  • काम के घंटे 8 से 12 करने का किया विरोध

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 05:00 AM IST

पठानकोट. श्रम कानून में संशोधन के खिलाफ पंजाब रोडवेज पनबस कॉन्ट्रेक्टर वर्कर्स यूनियन ने बस अड्डा में रोष रैली की। प्रदर्शनकारियों ने श्रम कानून में संशोधन को लेकर पंजाब सरकार का के खिलाफ नारेबाजी कर संशोधन को वापस लेने की मांग की। यूनियन ने कोरोना के दौरान ड्यूटी कर रहे ठेका कर्मियों को पक्का करने की मांग की। 
डिपो प्रधान सुखविंदर सिंह और जनरल सेक्रेटरी कमल ज्योति और शिक्षा विभाग के दीदार सिंह ने कहा कि कोरोना वायरस को ढाल बनाकर केंद्र सरकार और राज्य सरकार श्रम कानून को संशोधित कर मजदूर विरोधी कदम उठा रही है, उसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

सरकार की ओर से काम के समय को 8 से बढ़ाकर 12 घंटे किया जा रहा है और 38 लेबर कानूनों को बदलने का मजदूर संगठन विरोध जारी रखेंगे। कमल ज्योति ने कहा कि पंजाब सरकार ने अभी तक लोगों से किया एक भी वादा पूरा नहीं किया है और धीरे-धीरे सरकारी महकमे को खत्म किया जा रहा है। उन्होंने मांग की कि कच्चे मुलाजिमों को पक्का कर सरकारी विभागों को बचाया जाए। उन्होंने कहा कि सड़क, शिक्षा, ट्रांसपोर्ट, बिजली, पानी मुहैया कराना सरकार की जिम्मेदारी है।

सरकारी महकमे न होते तो लोग सुविधाओं नहीं मिल पातीं। उन्होंने मांग की रोडवेज में कम से कम 10000 बसों का फ्लीट होना चाहिए ताकि ट्रांसपोर्ट की सुविधा लोगों तक सही तरह से मिल सके। उन्होंने मेहनताने में संशोधन को 2012 के बाद 2017 बीच करना बनता था इसके बावजूद 5 साल बाद की जाने वाली संशोधन अभी तक नहीं किया गया है। इसके अनुसार 2017 में कम से कम 21000 देना बनता है। सरकार उसे तुरंत लागू करे और ठेका मुलाजिमों की कंडीशन लगाकर की गई छंटनी को वापस लिया जाए। इस मौके पर राजकुमार, जोगिंदर सिंह, बलविंदर सिंह, राकेश कुमार, विजय कुमार मौजूद थे।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना