पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

कोविड-19:500 बेड के सेंटर के आईसीयू में वेंटिलेटर चलाने को एमडी एनेस्थेटिक नहीं, गंभीर मरीज किए जा रहे रेफर

पठानकोटएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • चिंतपूर्णी मेडिकल कॉलेज कम कोविड-19 आइसोलेशन सेंटर से रिपोर्ट

बुंगल स्थित चिंतपूर्णी मेडिकल कॉलेज में कोरोना मरीजों के लिए 500 बेड के बनाए कोविड-19 आइसोलेशन फैसिलिटी सेंटर में 10 बेड के बने आईसीयू सेंटर में 5 वेंटिलेटर की सुविधा है, पर इन्हें चलाने के लिए एमडी एनेस्थेटिक नहीं है। ऑक्सीजन सप्लाई भी नहीं है। यहां कोरोना लेबल-2 के मरीजों को सिलेंडर से ऑक्सीजन मुहैया कराई जाती है।

गंभीर मरीजों को अमृतसर रेफर कर दिया जाता है। सेहत अधिकारी बताते हैं कि प्राइवेट अस्पतालों में वेंटिलेटर की सुविधा के लिए टाइअप है। गंभीर हालत वाले कई मरीजों को प्राइवेट अस्पतालों में वेंटिलेटर पर रखा जाता है। मरीजों के इलाज के लिए 84 वालंटियर, कांट्रेक्ट वालों में 6 एमओ, 24 स्टाफ, 12 फार्मासिस्ट, 30 वार्ड अटेंडेंट, 12 एलटी रखे हैं।

इसके अलावा रेगुलर स्टाफ में दो नर्सिंग स्टाफ, एक चीफ फार्मासिस्ट है। इन पर चीफ नोडल अफसर डॉ. सुनीता शर्मा, होम आइसोलेशन नोडल अफसर डॉ.रवि कांत, डॉ.मुक्ता को लगाया है। सुबह-शाम और रात को सिविल अस्पताल के स्पेशलिस्ट डॉक्टरों की ड्यूटी है। वार्ड में भर्ती मरीज और स्वस्थ हो लौटे लोगों का कहना है कि सुबह 9 से साढ़े 9 बजे ब्रेक फास्ट में केला, ब्रेड, दूध व परांठे होते हैं। लंच में दाल, चावल, सब्जी, आलू। रात 9 बजे के बाद खाना मिलता है पर उन तक पहुंचते-पहुंचते खाना ठंडा हो जाता है।

मरीज बोले-उन तक पहुंचते-पहुंचते खाना हो जाता है ठंडा

स्वस्थ होकर लौटे वार्ड 16 के पूर्व पार्षद रामपाल विक्की का कहना है कि कोरोना वार्डों में सिर्फ स्टाफ नर्सें व वालंटियर ही आते हैं, डॉक्टर नहीं। खाना ठंडा मिलता है। वहीं, अन्य लौटे गणमान्य लोगों ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि खाना ठंडा मिलता है। बाथरूम गंदे हैं। बता दें कि सेंटर में 430 से अधिक मरीजों की एंट्री थी। 405 लोग डिस्चार्ज होकर जा चुके हैं। वहां के नोडल अफसरों का कहना है कि श्री साईं इंस्टीट्यूट में 200 बैड का क्वारेंटाइन सेंटर बनाया है।

मरीज बोले-बाथरूम सही साफ न होने से इन्फेेक्शन का रहता है डर
मरीजों का कहना है कि बाथरूम सही साफ न होने से इन्फेक्शन का डर है। बता दें कि बीते दिनों डीसी ने सेंटर का दौरा कर कहा था कि जहां रसोई का इंतजाम किया जाए, ताकि मरीजों को गर्म और ताजा खाना मिल सके। वहीं, मरीजों के इंटरटेनमेंट के लिए टीवी, गेम्स जैसी सुविधा देने को कहा था। केंटीन न होने से वहां काम कर रहे वालंटियर व स्टाफ के लिए प्राब्लम है। इसके बावजूद मरीजों के लिए यह सुविधा मुहैया नहीं करवाई गई।

चीफ नोडल अफसर बोलीं , गंभीर मरीजों के लिए प्राइवेट अस्पताल से किया है टाइअप
चीफ नोडल अफसर डॉ. सुनीता शर्मा ने कहा कि गंभीर मरीजों के लिए प्राइवेट अस्पताल से टाइअप है। वहीं, मरीजों को गर्म खाना मिले, इसे लेकर डीसी की ओर से दौरा कर यहां रसोई का इंतजाम करने को कहा है। उम्मीद है जल्द यह व्यवस्था हो जाएगी।

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव - आज उन्नति से संबंधित शुभ समाचार की प्राप्ति होगी। धार्मिक और आध्यात्मिक कार्यों में भी कुछ समय व्यतीत होगा। किसी विशेष समाज सुधारक का सानिध्य आपके अंदर सकारात्मक ऊर्जा उत्पन्न करेगा। बच्चे त...

और पढ़ें