पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

प्रदर्शन:प्रशासन ने शव ढूंढने को नहीं रुकवाया नहर का पानी, विरोध में काठ दा पुल पर साढ़े चार घंटे तक धरना, किया प्रदर्शन

पठानकोट25 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • 2 दिन पहले काठ दा पुल नहर में बहे युवक मानिक का मामला, परिवार का आरोप-

2 दिन पहले माधोपुर-ब्यास लिंक नहर में नहाने उतरा मानिक पानी के तेज बहाव में बह गया, जिसे ढूंढने के लिए परिजनों ने जिला प्रशासन से मांग उठाई कि नहर के पानी को कम करवा दिया जाए या बंद करवा दिया जाए तो हम लोग खुद ही मानिक के शव को ढूंढ निकालेंगे। लेकिन जिला प्रशासन द्वारा जब इनकी बात न सुनी गई तो परिजनों के साथ इलाका आनंदपुरवासियों ने काठ दा पुल (नेशनल हाइवे)पर धरना लगाकर जाम लगा दिया।

इस दौरान मृतक की माता परमजीत कौर, जसबीर कौर, सोनम, दर्पण शर्मा, कांग्रेस सेवा दल के जिलाध्यक्ष गुलशन कुमार, शीतल, कांता रानी, रमा मेहरा, साजन, दीपू, रोहित, हेमंत ने कहा कि बड़े दुख की बात है कि मानिक को नहर में बहे आज तीसरा दिन है, लेकिन शव को ढूंढने के लिए न तो एमएलए पठानकोट और न ही जिला प्रशासन का हमें कोई सहयोग मिल रहा है।

हम बार-बार प्रशासन से मिन्नत कर रहे हैं कि नहर का पानी एक-दो घंटे के लिए बंद करवा दिया जाए, लेकिन हमारी सुनवाई नहीं हो रही। इसके विराेध में 1 बजे से लेकर सायं साढ़े 4 बजे तक काठ के पुल का रास्ता उन्होंने बंद कर दिया। इस दौरान पहुंचे पुलिस प्रशासन द्वारा ट्रैफिक को डायवर्ट कर दिया गया।

पठानकोट बस स्टेंड से लुधियाना-अमृतसर की तरफ जाने वाली बसों को डलहौजी रोड एबी काॅलेज रोड डाला गया। अमृतसर रुट से आने वाली बसों को काठ दा पुल से पठानकोट-अमृतसर नेशनल हाईवे के रास्ते ढांगू रोड से पठानकोट सिटी में एंट्री करवाई गई। इस दौरान एसएचओ प्रमोद कुमार ने भी लोगों को समझाने का प्रयास किया, लेकिन बात नहीं बनी। गौर हो कि 2 दिन पहले 3 युवा मानिक सहित नहर में नहाने उतरे तो पानी का तेज बहाव मानिक को बहा ले गया, लेकिन इनके दोनों साथी बाल-बाल बच गए थे।

ट्रैफिक किया डायवर्ट, डीएसपी के वीरवार सायं तक शव ढूंढने के आश्वासन पर धरना हटाया
इसलिए भड़के परिजन...
प्रदर्शनकारियों का कहना था कि वह एमएलए, पार्षद, जिला प्रशासनिक अधिकारियों के पास भी गए, लेकिन उन्होंने मना कर दिया कि पानी को किसी भी कीमत पर बंद नहीं कराया जा सकता, मानिक का शव खुद तैरते हुए ऊपर आ जाएगा, जिस पर परिजन भड़क उठे और उन्होंने प्रशासन व कांग्रेस के खिलाफ नारेबाजी की। इसके बाद सिटी डीएसपी राजेंद्र मन्हास पहुंचे और उन्होंने आश्वासन दिया कि वीरवार शाम तक मानिक का शव ढूंढकर आपके हवाले किया जाएगा। इस आश्वासन के बाद धरना उठा लिया गया। हालांकि परिजनों ने चेतावनी दी है कि कल शाम तक यदि मानिक का शव न मिला तो हम दाेबारा धरना देने को विवश होंगे।

खबरें और भी हैं...