सरकारी व्यवस्था:सिविल में 3 दिन से मशीन का ट्रांसफार्मर खराब, लोग प्राइवेट में करवा रहे एक्सरे

पठानकोट3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • चूला, कमर व बैक बोन का एक्सरे करवाने को खर्च करने पड़ रहे 800 रुपए
  • प्रदेश की 150 शिकायतें पेंडिंग क्योंकि पंजाब हेल्थ सिस्टम कार्पोरेशन से कंपनी की पिछली पेमेंट फंसी होने से इंजीनियर नहीं आ रहे

सिविल अस्पताल में तीन दिनों से एक्सरे मशीन का ट्रांसफार्मर खराब होने से लोगों के हैवी पार्ट के स्पाइन, चूला, कमर, बैक बोर्न एक्सरे नहीं हो रहे हैं। जिससे लोगों को मजबूरन प्राइवेट में 400 से 800 रुपए खर्च कर हैवी पार्ट के एक्सरे करवाने पड़ रहे हैं। इससे पहले 30 जुलाई को एक्सरे मशीन के ट्रांसफार्मर में खराबी आई थी। उसके बाद स्टाफ ने ट्रांसफार्मर ठीक न होने पर डायरेक्ट मशीन ऑप ट्रांसफार्मर लगाकर एक्सरे कर रहे थे।

लेकिन अब तीन दिनों से ट्रांसफार्मर में धमाका होने से मशीन बंद पड़ी है। जिससे अब लोगों के हैवी पार्ट के एक्सरे नहीं हो पा रहे हैं। बता दें कि सिविल अस्पताल में रोजाना 80 से अधिक लोग हैवी पार्ट के स्पाइन, चूला, कमर, बैक बोर्न के एक्सरे करवाने पहुंचते हैं।

सेहत अधिकारियों और एक्सरे विभाग स्टाफ ने चंडीगढ़ में कंपनी में ट्रांसफार्मर और मशीन में आई खराबी को लेकर शिकायत कर इसे ठीक करवाने को कहा है। वहीं बताया जा रहा है कि चंडीगढ़ स्थित कंपनी की पंजाब हेल्थ सिस्टम कार्पोरेशन से पिछली पेमेंट न होने से वह इंजीनियर नहीं भेज रहे हैं।

इन दिनों सबसे ज्यादा हैवी पार्ट के लोग एक्सरे करवाने पहुंच रहे हैं
सेहत विभाग द्वारा मजबूरी में आइसोलेशन वार्ड से पोर्टेबल मशीन लाकर सिर्फ चेस्ट के एक्सरे कर काम चलाया जा रहा है। स्टाफ की माने तो इन दिनों सबसे ज्यादा हैवी पार्ट के लोग एक्सरे करवाने पहुंच रहे हैं। जिन्हें मशीन और ट्रांसफार्मर खराब की बात कहकर वापस लौटाया जा रहा है।

वहीं आइसोलेशन वार्ड में स्टाफ को कोरोना के मरीजों के एक्सरे करने में दिक्कत पेश आएगी। बता दें कि पोर्टेबल मशीन 100 एमए की है, जो सिर्फ चेस्ट के एक्सरे ही कर सकती है। जबकि दूसरी मशीन 550एमए की है, जिससे हैवी पार्ट के एक्सरे किए जा सकते हैं।

एक्सरे विभाग में ट्रांसफार्मर और मशीन ठीक न होने से लोगों को परेशानी झेलनी पड़ रही है। कंपनी के इंजीनियरों की माने तो प्रदेश भर में 150 शिकायते पेंडिंग चल रही है। उधर एसएमओ डाॅ. राकेश सरपाल का कहना है कि एक्सरे मशीन का ट्रांसफार्मर ठीक करवाने के लिए कंपनी को कहा गया है। सोमवार तक इंजीनियर आकर मशीन के ट्रांसफार्मर को ठीककर देगा। फिलहाल पोर्टेबल से चेस्ट के एक्सरे किए जा रहे हैं।

पाेर्टेबल मशीन से सिर्फ चेस्ट के एक्सरे हो रहे
सिविल में पहुंचे परिवार वालों ने बताया कि सीमा देवी के पित्त में पथरी है। डाॅक्टर से चेकअप करवाने के बाद एक्सरे करवाने गए तो मशीन खराब होने की बात कहकर वापस भेज दिया। उन्हें मजबूरी में प्राइवेट में 500 रुपए खर्च कर एक्सरे करवाना पड़ा। इसी तरह एक्सरे करवाने पहुंचे सुमित, आरती, देव राज, सुशील ने बताया कि वह एक्सरे करवाने आए थे, लेकिन मशीन खराब बताकर उन्हें वापस लौटा दिया गया। जिससे उन्हें मजबूरी में प्राइवेट में पैसे खर्च कर एक्सरे करवाना पड़ा।

खबरें और भी हैं...