आसान नहीं घर वापसी की डगर / अमृतसर से मध्य प्रदेश जाने वाली ट्रेन रद्द, मायूस मजदूरों को राधा स्वामी सत्संग घर में ठहराया गया

Train from Amritsar to Madhya Pradesh canceled, dispirited laborers held at Radha Swami Satsang Ghar
X
Train from Amritsar to Madhya Pradesh canceled, dispirited laborers held at Radha Swami Satsang Ghar

  • पठानकोट में ठहराए मजदूरों का आंकड़ा 900 पार

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 05:00 AM IST

पठानकोट. कोरोना महामारी ने प्रवासी मजदूरों को सड़कों पर ला दिया है। एेसे में जिला प्रशासन प्रवासी मजदूरों को उनके घरों को पहुंचा रहा है। वीरवार को 314 लोगों को मध्य प्रदेश भेजा गया था। पर शुक्रवार को अमृतसर से मध्य प्रदेश के लिए जाने वाली ट्रेन रद्द होने से राधा स्वामी सत्संग घर में ठहराए मजदूरों को नहीं भेजा जा सका। कुछेक मजदूर यहां 6-6 दिन से रुके हैं।

अब यहां ठहराए मजदूरों का आंकड़ा 900 पार कर गया है। शुक्रवार दोपहर को जैसे ही पता चला कि मध्य प्रदेश जाने वाली ट्रेन कैंसिल है तो मजदूर मायूस हो गए। मजदूरों को ट्रेन तक छोड़ने के लिए मंगवाई बसों को भी वापिस भेज दिया गया। मजदूरों ने कहा कि हमारा मेडिकल हो चुका है। उन्होंने जिला प्रशासन से मांग की कि जल्द उनको मध्य प्रदेश पहुंचाया जाए।

उधर, सहायक लेबर कमिश्नर कनवर डाबर ने कहा कि शुक्रवार को एमपी के लिए जाने वाली ट्रेन कैंसिल हो गई है। जैसे ही आगामी सूचना मिलेगी उसी के अनुसार मजदूरों को भेज दिया जाएगा। वहीं, राधा स्वामी सत्संग घर के प्रधान तरसेम कुमार ने कहा कि सत्संग घर में जितने भी मजदूर आए हैं, सभी को लंगर खिलाया जा रहा है। कोई भूखा नहीं रहेगा। जो लोग गेट के बाहर टेंट के नीचे सड़क पर डेरा जमाए बैठे थे, उन्हें भी भीतर सत्संग घर में ले लिया गया है।

सत्संग घर में छह दिन से रुके हैं, घर जाने का नंबर ही नहीं आ रहा : माया

जुगियाल में रह रही मध्य प्रदेश की रहनी वाली माया ने बताया कि उन्होंने एमपी के जिला दतिया जाना है। एमपी के कई जिलों के मजदूरों को भेजा जा चुका है परंतु हमें राधा स्वामी सत्संग घर में रुके हुए 6 दिन हो गए हैं। हमारा नंबर ही नहीं आ रहा। कोई बता भी नहीं रहा कि कब भेजेंगे। आज तो ट्रेन ही रद्द हो गई। वहीं,  जुगियाल से आए विजय, छोटे लाल, राधा बाई, संजू ने कहा कि एमपी के जिला पन्ना के रहने वाले हैं। 10 दिन पहले मेडिकल कराया था। पर न कोई मैसेज या न काल आई। पता चला था कि एमपी के लिए ट्रेन जा रही है तो सामान लेकर आ गए।

पैसे है नहीं और मालिक किराया मांग रहे थे, इसलिए घर जाना चाहते हैंं : पार्वती

मामून से आई पार्वती ने बताया कि वह एमपी के जिला पन्ना के हैं। मजदूरी करते हैं। किराये पर रहते थे। अब पैसे नहीं हैं और मालिक किराया न देने पर भगा रहे हैं। इसलिए घर जाना चाहते हैं। तीन दिन से यहां बैो हैं। आस थी कि आज चले जाएंगे पर अब ट्रेन रद्द हो गई।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना