पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

हड़ताल:यूनियन के सदस्यों ने सीएम के नाम निगम मेयर और पार्षद बबली को दिया मांगपत्र

पठानकोट6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

कच्चे मुलाजिमों को पक्का करने की मांग पर अड़े रोडवेज/पनबस कांट्रैक्ट वर्कर यूनियन की चली आ रही हड़ताल रविवार को छठे दिन में प्रवेश कर गई। हालांकि इनमें से कई मुलाजिम चंडीगढ़ धरने में शामिल होने गए थे तो कइयों ने बस स्टैंड पठानकोट पर ही मोर्चा खोल रखा था। रविवार काे यूनियन नेताओं का जत्था प्रधान जोगेंद्र पाल लवली, राजकुमार के नेतृत्व में एमएलए अमित विज की कोठी पहुंचा हालांकि एमएलए अमित विज

जरूरी काम के सिलसिले से आउट आफ सिटी होने के कारण यूनियन नेताओं ने मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेंद्र सिंह के नाम मांगपत्र निगम मेयर पन्ना लाल भाटिया और पार्षद राकेश कुमार बबली को सौंपा। इस दौरान इनके साथ पार्षद हैप्पी भी थे। इस अवसर पर यूनियन के प्रधान ने कहा कि बड़े दुख की बात है कि पंजाब रोडवेज, पनबस, पीआरटीसी कांट्रैक्ट वर्कर यूनियन के सदस्य पिछले 10 साल से काम करते अा रहे लेकिन सरकार ने उन्हें आज तक पक्का नहीं किया।

सरकार हमारी मांगों को कर रही नजरअंदाज

जब से कांग्रेस सरकार सत्ता में आई है कई विभागों में काम कर रहे कच्चे मुलाजिमों को पक्का कर दिया लेकिन हमारी डिमांड पिछले कई सालों से चली आ रही है इसकी ओर नजर तक नहीं दौड़ाई इसलिए अाज हमें सड़कों पर उतरना पड़ रहा है। मुख्यमंत्री के नाम निगम मेयर काे दिए मांग पत्र में मांग की गई है कि हमारी डिमांड को पूरा किया जाए। इनकी पूरी बात सुनकर निगम मेयर पन्ना लाल भाटिया, पार्षद राकेश बबली ने कहा कि उनकी उचित मांग को मुख्यमंत्री तक जरूर पहुंचाया जाएगा।

सरकार को 7 हजार मुलाजिमों को करना है पक्का यदि हमारी बातें नहीं सुनीं गईं तो संघर्ष जारी रहेगा

इधर कच्चे मुलाजिमों ने कहा कि यह लेटर 13 सितंबर तक मुख्यमंत्री तक पहुंचा दिया जाना चाहिए क्योंकि 14 तारीख को पंजाब रोडवेज, पनबस, पीआरटीसी के पंजाब स्तरीय नुमाइंदों की मीटिंग मुख्यमंत्री पंजाब कैप्टन अमरिंदर सिंह के साथ होने जा रही है। उन्होंने यह चेतावनी भी दी कि यदि पंजाब भर के 7 हजार मुलाजिमों को पक्का करने का सरकार ने नोटिफिकेशन जारी नहीं किया तो संघर्ष और तेज किया जाएगा। 6 दिनों से कांट्रैक्ट वर्कर धरने पर बैठे हैं लेकिन सरकार इनकी बातें सुनने को तैयार नहीं है। इस मौके पर चेयरमैन गुरमीत सिंह, प्रधान सुखविंद्र सिंह, सीनियर उपप्रधान बलबीर सिंह, ज्वाइंट सचिव सिमरनजीत सिंह, उपचेयरमैन राजकुमार, महासचिव कमल ज्यौति, राज कुमार, जोगेंद्र पाल, कोषाध्यक्ष बलविंद्र सिंह, राकेश कुमार, मुख्य सलाहकार मंजिन्द्र सिंह, संजीव कुमार, जगदीश सैनी, प्रिंस, मुकेश कुमार, जोगेंद्र पाल लवली, सुखदेव सिंह भी थे।

खबरें और भी हैं...