मदद का वचन:श्री रामलीला की 7वीं रात्रि बाली वध का मंचन किया

फगवाड़ा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • बाली के घायल होने पर श्री राम से कहते आप तो सबके रखवाले हो फिर मुझे धोखे से क्यों वाण मारा

कौमी सेवक एवं रामलीला त्योहार कमेटी श्री हनुमान गढ़ी मंदिर पक्का रावण जीटी रोड की ओर से करवाई जा रही रामलीला की सातवीं रात्रि को रामलीला के मंचन किया गया। इसमें रामायण में सुंदर कांड पाठ का महत्व बचाया। इस कांड में श्री राम जी असहाय अपने भाई से परेशान किष्किन्धा नरेश सुग्रीव की मदद का वचन देते हैं। दोनों भाइयों के मल युद्ध में बाली को बाण मारकर अंत करते हैं। बाली के घायल होने पर श्री राम से कहते आप तो सबके रखवाले हो फिर मुझे धोखे से क्यों वाण मारा।

तब श्री राम जी बाली को समझाते हैं कि छोटे भाई स्त्री बहन के सामान होती है। जो कोई उस पर बुरी नजर रखता है है, उसे मारने मे कोई बुराई नहीं है। रामलीला का शुभारंभ मुख्यातिथि जगजीत सिंह जोड़ा और नरेंद्र वर्मा ने किया। इस अवसर पर मंदिर के चेयरमैन बलदेव राज शर्म, शाम लाल गुप्ता , तिलक राज कलूचा, ब्रह्म दत शर्मा, राकेश बांसल, कीमती लाल शर्मा, रविन्द्र शर्मा,स्टेज सचिव बलवंत बिल्लू रमेश धीमान बलराम शर्मा नीरज बंसल आदि उपस्थित थे।

खबरें और भी हैं...