पुलिस का खुलासा / लूट के लिए की गई थी सनप्रीत की हत्या

Sanpreet was murdered for plunder
X
Sanpreet was murdered for plunder

  • 13 दिन पहले राहों में सनप्रीत मांगट की हुई मौत का मामला सुलझा
  • हत्यारोपी सभी 6 लुटेरे गिरफ्तार, वारदात में इस्तेमाल मोटरसाइकिल और हथियार बरामद

दैनिक भास्कर

May 24, 2020, 05:00 AM IST

राहों. पत्रकार रहे राहों के रहने वाले सनप्रीत मांगट की मौत के मामले को पुलिस ने बड़ा खुलासा किया है। पुलिस के मुताबिक लुटेरा गैंग के 6 लोगों ने लूट की नीयत से सनप्रीत मांगट की हत्या की थी। पुलिस ने शनिवार को सभी 6 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। इससे पहले सड़क हादसे में सनप्रीत की मौत होने की संभावना को माना जा रहा था। सनप्रीत मांगट की 10 मई को संदिग्ध हालात में खून से सनी लाश मिली थी। एसएसपी ने शुक्रवार को स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम गठित करके इस केस की जांच एसपी वजीर सिंह, डीएसपी हरजीत सिंह व सीआईए इंचार्ज दलबीर सिंह को सौंपी थी।

एसएसपी अलका मीणा ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करके बताया कि गिरफ्तार आरोपियों में से चार राहों के रहने वाले हैं जबकि दो गांव गढ़पधाना के हैं। सभी आरोपियों की उम्र 18 से 24 के बीच है। ये सभी पहले भी लूट की वारदातें कर चुके हैं लेकिन अभी तक कोई मामला बायनेम रिपोर्ट नहीं हुआ। इसलिए किसी के खिलाफ कोई मामला दर्ज नहीं है।

हत्यारोपी सभी 6 लुटेरे गिरफ्तार

एसएसपी अलका मीणा ने बताया कि जांच में सामने आया कि आरोपी रात के वक्त अकेले सफर करने वाले लोगों को लूटते थे। 10 मई रात को राहों के जगदीप सिंह उर्फ बब्बू बाजवा, बख्शीश सिंह बब्बी, हर्ष, जतिन और गांव गढ़पधाना के हरजिंदर सिंह उर्फ भुट्‌टा व कमलजीत ने राहों मेंे माछीवाड़ा रोड पर सनप्रीत मांगट को अकेला पाकर घेर लिया और तेजधार हथियार दिखाकर पैसे लूटने की कोशिश की। सनप्रीत के विरोध करने पर लुटेरों ने उसको तेजधार हथियारों से वार कर मौत के घाट उतार दिया। आरोपियों ने सनप्रीत की जेब से 15 हजार रुपए, चांदी की चेन व पर्स भी छीन लिया था। एसएसपी ने बताया, वारदात में इस्तेमाल आरोपियों के मोटरसाइकिल और हथियार भी बरामद कर लिए हैं। पुलिस ने आरोपियों काे 4 दिन का रिमांड हासिल किया है।

खून से सनी लाश मिलने से हाईप्रोफाइल बन गया था केस

10 मई की रात को खून से सनी सनप्रीत मांगट की लाश मिलने के बाद यह मामला काफी हाईप्रोफाइल बन गया था। पुलिस ने पहले परिवार के बयान के आधार पर सनप्रीत की मौत को सड़क हादसे के तौर पर दर्ज किया था जबकि रात को हादसे वाली जगह पर ही बनाई गई वीडियो में साफ नजर आ रहा था कि ये सड़क हादसा नहीं बल्कि कत्ल है। फिर जब सनप्रीत मांगट की पोस्टमार्टम रिपोर्ट में 14 ऐसे जख्मों की पुष्टि हुई जोकि तेजधार हथियारों से किए गए थे तो पुलिस ने मामले में धारा 302 जोड़ी और राहों के एसएचओ को भी लाइन हाजिर कर दिया। इस मामले को अकाली दल के बड़े नेताओं के अलावा कुछ कांग्रेस नेताओं ने भी उठाया था और कहा कि सनप्रीत मांगट पत्रकारिता करते हुए माफिया के खिलाफ स्टोरी करता रहा था, इसलिए उनकी मौत की उच्च स्तरीय जांच होनी चाहिए।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना