• Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Ropar
  • If The Pension Benefits Are Not Given To The Retired Employees Within 10 Days, Then They Will Picket In Chandigarh: Committee

बैठक:सेवानिवृत कर्मियों को पेंशन का लाभ 10 दिन में न दिया तो चंडीगढ़ में धरना देंगे : कमेटी

नंगल सिटीएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • कहा- पहले भी दिया था धरना, उच्चाधिकारियों ने दिया था आश्वासन

महिला तालमेल संघर्ष कमेटी की बैठक का प्रधान पूनम शर्मा की अध्यक्षता में की गई। पूनम ने कहा कि कमेटी ने पहले भी सेवानिवृत्त हो चुके कर्मचारियों को पेंशन के लाभ दिलवाने के लिए प्रदर्शन किए हैं। कमेटी की तरफ से मुख्य अभियंता कार्यालय सिंचाई विंग के सामने 09- फरवरी और बोर्ड कार्यालय चंडीगढ़ के सामने 2 मार्च को भूख हड़ताल की गई थी। उस समय बोर्ड के उच्चाधिकारियों ने आश्वासन दिया था कि सेवानिवृत कर्मचारियों के पेंशन जैसे मुद्दों को 10 से 15 दिन में हल किया जाएगा लेकिन ढाई-तीन महीने बाद भी कुछ नहीं हुआ।

उन्होंने बताया कि 31 जनवरी 2020 से सेवानिवृत हुए बलवीर सिंह, 30-4-2020 से सेवनिवृत हुए दर्शन सिंह, 30-9-2020 से सेवानिवृत हुए नानक चंद एवं तरलोचन सिंह के पेंशन केस सबकुछ हो जाने के बाद जीपीएफ/सीपीएफ कार्यालय को जीपीएफ प्रमाण पत्र प्राप्त करने के लिए भेजे गए लगभग तीन महीने बीत चुके हैं। इस संबंधी जीपीएफ कार्यालय ने अभी तक केस पेंशन कार्यालय को नहीं भेजा है।

उन्होंने कहा कि महिला तालमेल संघर्ष कमेटी मांग करती है कि जिस कार्यालय की गलती से इतने लंबे समय तक पेंशन के लाभ नहीं दिए गए उसके खिलाफ कार्रवाई की जाए और कर्मचारियों को पेंशन लाभ जल्द दिए जाए। यदि 10 से 15 दिन के भीतर पेंशन के लाभ नहीं दिए तो बोर्ड कार्यालय के सामने धरना दिया जाएगा।

खबरें और भी हैं...