निगम की वसूली:8 महीने में प्रॉपर्टी टैक्स की मात्र 39 फीसदी रिकवरी 2 करोड़ 30 लाख टार्गेट पर अभी सिर्फ 90 लाख आए

रोपड़एक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
नगर कौंसिल, रोपड़। - Dainik Bhaskar
नगर कौंसिल, रोपड़।
  • जिले में 10 हजार रिहायशी और 2 हजार कमर्शियल यूनिट, सरकारी विभागों से वसूली भी बनी सिरदर्दी

वित वर्ष 2021-22 के 8 महीने बीत चुके हैं और इनमें नगर कौंसिल प्रॉपर्टी टैक्स से मात्र 90 लाख रुपए ही एकत्र कर पाई है जबकि इस साल का टार्गेट 2 करोड़ 30 लाख रुपए है। इस हिसाब से अभी तक नगर कौंसिल 39 फीसदी प्रॉपर्टी टैक्स ही एकत्र कर पाई है। जबकि इस पर सरकार की ओर से 10 फीसदी छूट भी दी गई थी। फिर भी लोग प्रॉपर्टी टैक्स जमा करवाने में आनाकानी कर रहे हैं।

10 फीसदी छूट का फायदा लेने का समय सिर्फ 30 नवंबर तक ही था। इसके बाद 31 मार्च तक पूरा प्रॉपर्टी टैक्स देना होगा। 31 मार्च के बाद 20 फीसदी पैनल्टी और 18 फीसदी ब्याज समेत इसका भुगतान करना होगा। नगर कौंसिल से मिली जानकारी के अनुसार रोपड़ नगर कौंसिल में करीब 10 हजार रिहायशी व 2 हजार कमर्शियल यूनिट हैं। इनमें से सिर्फ 5 हजार रिहायशी व 1 हजार कमर्शियल यूनिट का ही प्रॉपर्टी टैक्स जमा हुआ है।

रोपड़ पुलिस ने ही देने हैं 1.30 करोड़

नगर कौंसिल की हदूद में आते सरकारी ऑफिस भी प्रॉपर्टी टैक्स नहीं जमा करवा रहे। सबसे बड़ी परेशानी यही है। रोपड़ पुलिस ने नगर कौंसिल का 1 करोड़ 30 लाख रुपए प्रॉपर्टी टैक्स देना है। जबकि वन मंडल ने भी लाखों रुपए प्रॉपर्टी टैक्स अभी जमा नहीं करवाया है। जो पिछले साल के डिफॉल्टर हैं, उनको सरकार द्वारा 30 नवंबर तक 20 फीसदी पैनल्टी व 18 फीसदी ब्याज समेत जो राशि बनती है, उस पर 10 फीसदी छूट दी जा रही थी लेकिन इसके बावजूद टैक्स जमा नहीं करवाया गया।

नोटिस निकाल रहे, मुनादी करवा रहे

इस मौके जब नगर कौंसिल के ईओ भजन चंद से बात हुई तो उन्होंने कहा कि नगर कौंसिल द्वारा प्रॉपर्टी टैक्स एकत्र करने के लिए नोटिस निकाले जा रहे हैं और शहर में मुनादी भी करवाई जा रही है। उन्होंने कहा कि उनकी शहर निवासियों से अपील है कि अपना प्रॉपर्टी टैक्स समय पर जमा करवाया जाए ताकि नगर कौंसिल द्वारा लोगों को मिलने वाली बुनियादी सुविधाओं में कोई कमी न आ सके।

कौंसिल के लिए बनेगी परेशानी, 4 करोड़ बिजली बिल है बकाया

काबिलेगौर है कि अब तक जो 90 लाख रुपए नगर कौंसिल को प्रॉपर्टी टैक्स मिला है, उसमें से 20 लाख पिछले साल का है। जबकि इस साल का करीब 70 लाख रुपया ही नगर कौंसिल रिकवर कर पाई है। जोकि नगर कौंसिल के लिए आने वाले दिनों में सिरदर्दी बन सकता है। क्योंकि कुछ माह पहले बिजली विभाग द्वारा बिलों के भुगतान की पेंडिंग राशि को लेकर नगर कौंसिल के कई कनेक्शन भी काट दिए थे।

जिसके बदा ईओ के आश्वासन के बाद बिजली विभाग द्वारा कनेक्शन जोड़ दिए गए थे और कुछ दिन बाद नगर कौंसिल द्वारा कुछ पैसा जमा करवा दिया गया। यह बकाया अभी भी जारी है। अब तक नगर कौंसिल ने बिजली विभाग का करीब 4 करोड़ रुपए बिजली के बिलों का भुगतान करना है।

खबरें और भी हैं...