किसानों को श्रद्धांजलि:छठे वेतन कमीशन की सीमा बढ़ाकर पंजाब सरकार ने पेंशनरों से किया धोखा : बीएस सैनी

रोपड़9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मीटिंग के दौरान उपस्थित एसोसिएशन के सदस्य। - Dainik Bhaskar
मीटिंग के दौरान उपस्थित एसोसिएशन के सदस्य।
  • पंजाब पेंशनर व पावरकॉम एसोसिएशन ने किसान आंदोलन में जान गंवाने वाले लोगों को दी श्रद्धांजलि

पंजाब राज्य पेंशनर्स महासंघ से संबंधित संगठन पंजाब पेंशनर्स एसोसिएशन और पावरकॉम, ट्रांसको पेंशनर्स वेलफेयर एसोसिएशन जिला रोपड़ की साझी मीटिंग अवतार सिंह लोधीमाजरा और बीएस सैनी की अगुवाई में गांधी स्कूल रोपड़ में हुई।

मीटिंग में पिछडे साथी अमरीक सिंह खेड़ी पूर्व महासचिव और किसान आंदोलन में जाने कुर्बान करने वाले किसानों को 2 मिनट का मौन धारण कर श्रद्धांजलि भेंट की। मीटिंग में मत पास करके केंद्र सरकार द्वारा पास किए गए कृषि कानूनों के विरोध में किसानों द्वारा किए जा रहे संघर्ष का समर्थन करते हुए केंद्र सरकार के अड़ियल व्यवहार की निंदा की गई और मांग की गई कि किसान विरोधी कृषि कानून वापस लिए जाएं। इस मौके अवतार सिंह लोधीमाजरा और बीएस सैनी ने कहा कि पंजाब सरकार बार-बार छठे वेतन कमीशन की सीमा बढ़ाकर अपने वादे से मुकर रही है और पंजाब के पेंशनरों तथा मुलाजिमों के साथ धोखा कर रही है।

अब दोबारा इसकी सीमा बढ़ाकर 31 मार्च की गई है। जिसकी उन्होंने निंदा की और मांग की कि वेतन कमीशन की रिपोर्ट जारी करके 1 जनवरी 2016 से तुरंत लागू की जाए। इसके अलावा बजट सैशन दौरान छठा वेतन कमीशन 1 जुलाई 2021 से लागू करने, जुलाई 2015 से दिसंबर 2021 तक पिछली 7 किस्तों के 108 महीनों के महंगाई भत्ते का बकाया, 1 जनवरी 2019 से 1 जुलाई 2019 की किस्तें जारी करने संबंधी चुप रहने पर वित्त मंत्री के खिलाफ रोष प्रकट किया।

मीटिंग में विचार किया गया कि अगर मंत्री के बयान अनुसार छठा वेतन कमीशन 1 जनवरी 2016 की बजाय 1 जुलाई 2021 से लागू किया जाता है तो पेंशनरों और मुलाजिमों का बड़ा माली नुकसान होगा। जिसे पेंशनर और मुलाजिम किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं करेंगे।

इस मौके पर महासचिव जगतार सिंह, उजागर सिंह, रछपाल सिंह सैनी, चरनजीत सिंह खेड़ी पूर्व बीडीपीओ, विजय लक्ष्मी, जगदीश लाल एसडीओ, कामरेड गुरनाम सिंह, बलदेव सिंह कोरे तथा नरेंद्रपाल सिंह ऑबेरॉय ने भी मीटिंग को संबोधित किया। इस मौके पर देव सिंह, जेपी सिंह, सौदागर सिंह उप्पल, मदन सिंह, जय चंद, महिंदर सिंह कंग, मुकंद सिंह, पी.सी सैनी, गुरसेवक सिंह, गुरदेव सिंह, करनैल सिंह भक्कूमाजरा, हरिंदर सिंह और अन्य संगठन के मेंबर भी उपस्थित थे।

खबरें और भी हैं...