किसानों का गुस्सा बढ़ता जा रहा:रात साढ़े 10 बजे होटल के बाहर हंगामा, गाड़ी पर पीएम मोदी की तस्वीर लगी देख किसान भड़के, पोस्टर फाड़े

रोपड़2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • स्वतंत्रता दिवस के संबंध में तमिलनाडु की बुलेट रानी मनाली तक निकाल रही थी यात्रा, काफिले में शामिल थी गाड़ी

केंद्र सरकार द्वारा पास किए 3 कृषि कानूनों के विरोध में किसानों का गुस्सा बढ़ता जा रहा है। कहीं पर भी भाजपा द्वारा करवाए जाने वाले किसी भी प्रोग्राम की भनक किसानों को लगते ही वह भाजपा का विरोध करने के लिए मौकास्थल पर पहुंच जाते हैं। ऐसा ही एक मामला गत रात रोपड़ में देखने को मिला।

जहां पर गत देर रात करीब 10:30 बजे तमिलनाडु से हिमाचल की यात्रा पर जा रहे एक गाड़ी पर मोदी सरकार की तस्वीरें लगी हुई थीं। यह गाड़ी रोपड़ के पुराने बस स्टैंड के नजदीक स्थित बाज होटल के नजदीक खड़ी थी। गाड़ी की भनक जैसे ही किसानों को लगी तो वह तुरंत गाड़ी के नजदीक पहुंच गए।

जहां पहुंच कर उन्होंने मोदी सरकार मुर्दाबाद के नारे लगाते हुए गाड़ी पर लगी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तस्वीरें फाड़ दीं। इस दौरान किसानों द्वारा करीब 1 घंटा लगातार मोदी सरकार के खिलाफ नारेबाजी की गई। इसके बाद सिटी पुलिस रोपड़ और सदर पुलिस ने मौके पर पहुंचकर किसानों को शांत करवाया और उन्हें वापस घरों को भेज दिया।

किसान नेता बोले- गाड़ी पर लिखा था मोदी नंबर-1 प्रधानमंत्री, जबकि वो किसानों की नहीं सुन रहे
किसान नेता कुलविंदर सिंह पंजोला, कुलवंत सैनी, दलजीत सिंह गिल, परविंदर सिंह अलीपुर ने नारे लगाते हुए कहा कि उक्त लोगों द्वारा प्रचार किया जा रहा है कि मोदी नंबर-1 प्रधानमंत्री हैं। जबकि हमारे किसान पिछले करीब 8 महीनों से दिल्ली बॉर्डरों पर धरने पर बैठे हुए हैं।

लेकिन मोदी सरकार 3 कृषि कानूनों को रद्द नहीं कर रही। इसलिए हम इनसे पूछना चाहते हैं कि यह सब देखते हुए भी मोदी कैसे नंबर-1 प्रधानमंत्री हैं। उन्होंने कहा कि जब तक मोदी सरकार द्वारा कृषि कानून रद्द नहीं होते तब तक भाजपा के हर प्रोग्राम का विरोध किया जाएगा।

मद्रास से मनाली तक निकाली जा रही थी यात्रा : एसएचओ
एसएचओ सिटी भगवंत सिंह ने बताया कि तमिलनाडु की रहने वाली राज लक्ष्मी जोकि बुलेट रानी के नाम से प्रसिद्ध है। उसने बुलेट पर कई तरह की खोजें की हैं अौर कई अवार्ड भी प्राप्त किए हैं। आजकल वह मियूर विहार दिल्ली में रह रहीं हैं। 75वें आजादी दिवस के मौके उनके द्वारा देश के शहीदों की याद में देश के एक कोने से दूसरे कोने तक मद्रास से मनाली तक रैली निकाली थी। इस रैली के दौरान उनके साथ 2 गाड़ीयां थीं।

वह इनोवा कार (टीएन 07 बीबी 7799) में सवार थीं और एक टेंपू ट्रेवलर (एचआर 69सी 7424) पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पोस्टर लगे हुए थे। इस रैली के दौरान उनके गुरु जी मदना कुमार व माता अन्नापूर्णा समेत 20 लोग और मैकेनिक व अन्य लोग शामिल थे। इस दौरान वह बाज होटल में आए थे।

इसके बाद किसान कुलविंदर सिंह पंजोला, कुलवंत सैनी, दलजीत सिंह गिल, परविंदर सिंह अलीपुर समेत अन्य किसानों ने मौके पर पहुंचकर उनका विरोध करना शुरू कर दिया। किसानों को समझाकर वापस घरों को भेज दिया है।

खबरें और भी हैं...