कोर्ट का दरवाजा खटखटाया:कोर्ट के आदेश पर चीफ इंजीनियर कार्यालय और चार हट्स किए सील, आएसडी परियोजना से प्रभावित परिवारों को नहीं मिला मुआवजा

शाहपुरकंडीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • पेमेंट में देरी होने पर चीफ इंजीनियर कार्यालय व हट्स को सील किया

रणजीत सागर बांध परियोजना से प्रभावित हुए कई परिवारों को उनका बनता सही मुआवजा न मिलने पर प्रभावित परिवारों ने कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था। पीड़ित परिवारों की दरकार सुनने के बाद कोर्ट के आदेशों पर चीफ इंजीनियर कार्यालय के साथ बांध परियोजना पर बनी चार हट्स को सील कर दिया गया है। बांध परियोजना के एक्सईन राकेश जसरोटियां ने बताया कि मृतक शिमला देवी निवासी सारटी के कानूनी वारियों की लगभग 5 लाख 63 हजार रुपए का मुआवजा बनता है।

जिसके लिए बांध प्रशासन की ओर से भूमि अधिग्रहण अधिकारी के पास उक्त बनता मुआवजा जमा करवा दिया था, परंतु वारिस जिसमें रतन चंद, हंडू राम, शालो व अन्य वारिसों को कई बार अपने पैसे लेने के लिए बुलाया गया था, परंतु उक्त लोग नहीं आए। जिसपर उक्त लोगों ने अपना केस कोर्ट में डालकर अपने मुआवजे की मांग की है। पेमेंट में देरी होने पर चीफ इंजीनियर कार्यालय व हट्स को सील किया है। उन्होंने बताया कि विभाग की ओर कोर्ट में पहुंच कर बनता मुआवजा जमा करवा दिया जाएगा तथा कार्यालय व हट्स को खुलवाने के आदेश ले लिए जाएंगे।

खबरें और भी हैं...