कपूरथला में गुरुद्वारे पर कब्जे का प्रयास:AAP जिलाध्यक्ष के माता-पिता और भाई समेत 14 पर केस दर्ज; ग्रंथी को बंधक बनाने-रिकॉर्ड कब्जाने का आरोप

कपूरथला4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कपूरथला के गुरुद्वारा में छानबीन के लिए पहुंची पुलिस। - Dainik Bhaskar
कपूरथला के गुरुद्वारा में छानबीन के लिए पहुंची पुलिस।

पंजाब में कपूरथला के एक ऐतिहासिक धार्मिक स्थल पर कब्जा करने और तोड़फोड़ करने के आरोप में पुलिस ने आम आदमी पार्टी (AAP) के जिला प्रधान गुरपाल पाल सिंह इंडियन के माता-पिता और भाई सहित 6 लोगों को नामजद करते हुए 14 लोगों पर विभिन्न धाराओं में मामला दर्ज किया है।

विवाद 2 दिन पुराना बताया जा रहा है। पुलिस अधिकारियों और कुछ लोगों ने शुरुआत में विवाद को सुलझाने का प्रयास किया लेकिन जब बात नहीं बनी तो शुक्रवार को पुलिस ने आरोपियों पर केस दर्ज कर लिया। शुक्रवार को इस मामले को लेकर शहर में रोष मार्च भी निकाला गया।

उधर AAP के जिला प्रधान गुरपाल सिंह ने अपनी सफाई में कहा है कि वह 12 साल से माता-पिता से अलग रह रहे हैं। गुरपाल सिंह के अनुसार, उनका इस पूरे मामले से कोई लेना-देना नहीं है।

गुरुद्वारे में लड़ाई झगड़े की मिली सूचना

जानकारी अनुसार गुरुद्वारा साहिब बाविया सेवा सोसायटी कपूरथला के प्रधान उज्जल सिंह ने पुलिस को दी शिकायत में बताया कि 6 जून को रात 9 बजे उसे जगीर सिंह सिद्धू निवासी अर्बन एस्टेट का फोन आया। उसे बताया कि गुरुद्वारा साहिब में 13-14 लोग आए हैं। इनमें मनजीत बहादुर सिंह बावा, दविंदरपाल कौर, वीर कमलजीत सिंह बावा निवासी मोहल्ला साहिबजादा फतेह सिंह नगर कार में सवार होकर पहुंचे हैं। जबकि मनमोहन सिंह वालिया वासी शेखूपुर रोड, परमजीत सिंह निवासी गुरु नानक नगर, सुरजीत सिंह उर्फ विक्की निवासी सीनपुरा भी उनके साथ हैं और लड़ाई झगड़ा कर रहे हैं।

ग्रंथी को बनाया बंधक

प्रधान उज्जल सिंह ने कहा कि सूचना मिलते के बाद वह रात 9:30 बजे गुरुद्वारा साहिब पहुंचे। उन्होंने देखा कि उक्त लोगों में से मनजीत बहादुर बावा और वीर कमलजीत सिंह बावा ने किरपान ले रखी थी। दविंदरपाल कौर ने गुरुद्वारा साहिब के अंदर पहुंचकर ग्रंथी कर्मजीत सिंह से गुरुद्वारा साहिब की चाबियां और मोबाइल ले लिया।

इसके बाद इन लोगों ने ग्रंथी कर्मजीत सिंह को अपने 7-8 अज्ञात साथियों के साथ मिलकर कमरे में बंद कर दिया और गुरुद्वारा साहिब के कार्यालय में रखे 27 हजार 650 रुपए और सीसीटीवी कैमरों की डीवीआर ले गए। सभी आरोपियों ने गुरुद्वारा साहिब के कार्यालय के रिकार्ड पर भी कब्जा कर लिया।

कपूरथला में शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए रोष मार्च निकाला गया।
कपूरथला में शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए रोष मार्च निकाला गया।

दोनों पक्षों में नहीं हुआ समझौता

इस पूरे विवाद के बाद दोनों पक्षों में समझौते की बात चली मगर किसी कारण समझौता नहीं हो पाया। इसके बाद शुक्रवार को कपूरथला सिटी थाने में गुरुद्वारा साहिब बाविया सेवा सोसायटी रजि के प्रधान उज्जल सिंह की शिकायत पर 6 लोगों को नामजद करते हुए 14 के खिलाफ धारा 458, 342, 380, 427, 148, 149 व 120बी आईपीसी के तहत केस दर्ज किया है।

FIR में इनके नाम

मामले में नामजद मनजीत बहादुर सिंह बावा, दविंदरपाल कौर, वीर कमलजीत सिंह बावा, मनमोहन सिंह, परमजीत सिंह व सुरजीत सिंह उर्फ विक्की शामिल है। यहां यह भी बता दें कि मनजीत बहादुर सिंह बाबा कथा दविंदर पाल कौर आम आदमी पार्टी के जिला प्रधान गुरपाल पाल सिंह इंडियन के माता-पिता है तथा वीर कमलजीत सिंह बाबा उसके छोटा भाई हैं। वही सुजीत सिंह उर्फ विक्की आम आदमी पार्टी में सक्रिय युवा नेता हैं।

शहर में निकाला रोष मार्च

कपूरथला के गुरुद्वारा साहिब बाविया पर कब्जा करने के प्रयास से लोगों में रोष है। इसी मामले को लेकर शुक्रवार को शहर में रोष मार्च भी निकाला गया। इसमें सभी धर्मों के लोगों को आमंत्रित किया गया था। लोगों ने मांग की है कि मामले की निष्पक्ष जांच हो और शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए उचित कदम उठाए जाएं।

आप प्रधान बोले- मैं माता-पिता से अलग

गुरुद्वारा कब्जा विवाद में आप के जिला प्रधान गुरपाल सिंह इंडियन का कहना है कि वह 12 साल से अपने माता पिता से अलग रह रहे हैं। बावियां गुरुद्वारा साहिब के मामले में अकाली व कांग्रेस पार्टी द्वारा राजनीतिक दखल अंदाजी कर सियासत का खेल खेला जा रहा है। वहीं मनजीत सिंह बावा ने कहा कि यह गुरुद्वारा साहिब उनके अंश-वंश से है। दूसरी पार्टी के लोग बावा बिरादरी से सबंध नही रखते हैं और न ही उनमें से कोई सदस्य अमृतधारी सिक्ख है। गुरुद्वारा साहिब का मामला कोर्ट में विचाराधीन है।