नशे पर पुलिस का एक्शन, चलाया सर्च अभियान:100 घरों में की चेकिंग, 11 संदिग्धों को हिरासत में लिया,पांच ग्राम हेरोइन 200 नशे की गोलियां और 16 हजार रुपए ड्रग मनी बरामद की

जगराओं4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

लुधियाना देहात की पुलिस ने नशे के खिलाफ पूरे शहर को हाईजेक कर कई इलाकों में घर घर जाकर एक एक कोना खंगाला। इस दौरान डॉग स्क्वायड की टीमों समेत 300 के करीब पुलिस कर्मी व अधिकारी सड़कों पर उतरे। और शक के दायरे में आने वाले सभी लोगों के घरों को खंगाला। पुलिस ने कई लोगों को पूछताछ के लिए हिरासत में भी लिया।

पुलिस ने शहर व गांवों में 100 के करीब घरों की तलाशी दौरान 5 ग्राम हेरोइन 200 नशे की गोलियां व 16 हजार रुपये ड्रग मनी के रूप मे बरामद किए हैं। जानकारी के मुताबिक लुधियाना देहात में नशे का गढ़ कहे जाने वाले मोहल्ला माई जीना चुंगी नंबर 5 और 7 जगराओं, गुरू नानक नगर रायकोट मोहल्ला बाजीगर बस्ती, सिधवां बेट के गांव कुल गहना के अलावा जगराओं के गांव गगाड़, गांव छजावाल, गांव रूमी, गांव गालिब कलां, गांव सवद्दी खुर्द, गांव समेलपुरा टिब्बा, गांव ढैपई, गांव सहौली आदि गांवों में 100 के करीब घरों की तलाशी ली गई।

लेकिन, हैरानी की बात ये रही कि नशे का गढ़ कहे जाने वाले इन इलाकों में पुलिस को सिर्फ 5 ग्राम हेरोइन 200 नशे की गोलियां 16 हजार ड्रग मनी ही बरामद हुई। इसके अलावा 11 लोगों को पूछताछ के लिये हिरासत में लिया है। अब पुलिस को किसी भी गांव में भारी मात्रा में हेरोइन, नशीला पाउडर, चूरापोस्त, अफीम आदि कुछ भी ना मिलना पुलिस कार्रवाई पर कई तरह के सवाल खड़े करता है।

पुलिस ने घरों में अलमारी से लेकर डिब्बों की भी तलाशी ली

जगराओं व सिधवां बेट के कई गांव ऐसे हैं। जिन्हें नशे का गढ़ कहा जाता है। नशे की गोलियां, हेरोइन, चिट्टा, नशीली पाउडर, चूरापोस्त अफीम आदि नशा कई गांवों में अक्सर ही बिकता है। जिसके चलते रोजाना देहात पुलिस शहर समेत गांवों से नशा तस्करों को पकड़ती है। लेकिन हैरानी की बात है कि रविवार को सड़कों पर उतरी देहात पुलिस ने शक के आधार पर कई घरों में पूरी तरह से तलाशी ली। लेकिन, पुलिस के नशा ना मात्र मिलना पुलिस कार्रवाई पर कई तरह के सवाल खड़े करता है। या फिर यूं कहा जाए कि तस्करों को पहले ही पुलिस के सर्च ऑपरेशन की पूरी जानकारी थी। जिसके चलते पुलिस को शहर के अंदर किसी भी घर में नशा नहीं मिला या फिर पुलिस गलत ही घरों की तलाशी लेकर खानापूर्ति कर चलती बनी।

पुलिस को नशा तो नहीं मिला, घरों का सामान जरूर बिखेर दिया

नशे के खात्मे को लेकर पुलिस ने सर्च ऑपरेशन चला कर कई लोगों के घरों की तलाशी ली। इस दौरान पुलिस को शहर के अंदर नशा तो नहीं मिला। लेकिन समान जरूर बिखेरा है। इसको लेकर कई लोगों ने पुलिस कार्रवाई पर सवाल खड़े करते कहा कि जो नशा बेचते हैं, उनके ठिकानों की तलाशी लेने की जगह पुलिस आमजन के घरों में समान बिखेरने आ जाती है।

खबरें और भी हैं...