पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

निजीकरण:नेताओं से किसान पूछेंगे सवाल, कैसे खत्म करेंगे महंगाई और बेरोजगारी

जगराओं4 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

मोदी सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल कर 345 दिनों से बैठे किसानों ने कहा कि जैसे करनाल जीते हैं। उसी तरह अब दिल्ली भी जल्द जीतेंगे। इन शब्दों का प्रगटावा किसान मजदूर नेता कमलजीत खन्ना ने किया। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार गरीबों व किसानों की सबसे बड़ी दुश्मन है। इसी के चलते तो अंबानी अडानी के कर्ज माफ किए जा रहे हैं। किसान कर्ज के बोझ तले मर रहे हैं। वह सरकार को दिखाई नहीं देता। किसान नेताओं ने कहा कि सरकार ने पेट्रोल, डीजल गैस समेत खाने पीने वाली चीजों के दाम बढ़ा आमजन से अंबानी अडानी के माफ किए कर्ज को वसूल रही है।

इस दौरान किसान नेताओं ने पंजाब में होने वाले चुनावों में नेताओं को घेरने के लिए सवालों की लिस्ट तैयार की है। जिसमें लोग नेताओं से पूछेंगे कि वह बेरोजगारी व महंगाई को कैसे रोकेंगे। इतना ही नहीं हर पार्टी के लिए अलग-अलग सवाल तैयार किए हैं। इस संबंधी दर्शन सिंह गालिब कमलजीत खन्‍ना ने कहा कि शिअद पहले तीनों का कानूनों का गुणगान कर रहा था जब कानून पास हो रहे तब क्यों नहीं विरोध किया और जो वादे अब

किए जा रहे हैं वह कैसे पूरे करें। वहीं कांग्रेस के लिए बेअदबी का इंसाफ घर घर नौकरी किसानों का कर्ज माफी नशा मुक्त पंजाब जैसे सवाल खडे़ किए हैं। इसके अलावा आप के लिये भी सवाल तैयार किए हैं। ताकि, जब भी नेता गांवों में दाखिल हो तो उनसे सवाल किए जाए, इतना ही नहीं भ्रष्टाचार और गरीबी का खात्मा कैसे करेंगे। इसके साथ ही निजीकरण का उनके पास क्या इलाज है और पूर्व विधायकों व सांसदों की पेंशन बंद करवाने के लिए वह क्या करेंगे किसान नेताओं ने कहा कि अगर पंजाब को बचाना है तो इन सवालों के जवाब सभी पार्टी नेताओं से लेने होंगे।

खबरें और भी हैं...