खानापूर्ति:बिना लेंटर डाले बनाए मैनहोल, लेवल भी सड़क के मुताबिक नहीं

जगराओं8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

नगर कौंसिल अधिकारियों की लापरवाही फिर से देखने को मिल रही है। जहां पहले ठेकेदार ने मैनहोल निकाले बिना 48 लाख की बनाई सड़क को उखाड़ डाला। ताकि, मैनहोल बाहर निकाले जा सके। अब मैनहोल बनाए जा रहे हैं। उसे देखने भी कौंसिल अधिकारी मौका तक देखने नहीं पहुंचे। जिसका नतीजा यह रहा कि ठेकेदार शनिवार व रविवार का मौका उठाते हुए बिना लेंटर डाले खानापूर्ति के लिये मैनहोल बना डाले। ठेकेदार द्वारा बनाए गए मैनहोल ईंटों की चिनाई से बनाने के कारण इतने तंग बन गए कि अगर कल को इसकी सफाई के लिए किसी कर्मी को थाेड़ा नीचे उतरना पड़ा तो वह नीचे नहीं उतर सकता।

इतना ही नहीं मैनहोल का लेवल भी सड़क के मुताबिक नहीं बनाया गया। जिससे कभी कोई राहगीर रात के अंधेरे में हादसे का शिकार हो सकता है। इस संबंधी एक अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि मैनहोल लेंटर वाले होने चाहिए थे और मैनहोल में उतरने के लिए लोहे की सीढ़ी बनानी होती है। ताकि, सफाई कर्मी आसानी से नीचे उतर कर सफाई कर सके। लेकिन ठेकेदार ने बिना लेंटर डाले ही मैनहोल तैयार कर दिए। अब उसके साथ ही फिर से टाइलें लगा कर सड़क पूरी दिखा कर ठेकेदार पेमेंट करवा लेगा। बता दें कि करीब दो महीने पहले नगर कौंसिल चुनावों से पहले कांग्रेसी नेताओं ने उद्घाटन कर डिस्पोजल रोड चौक से लेकर गोगल के खोखे तक सड़क बनाने का नींव पत्थर रखा था। जिसका ठेका करीब 48 लाख रुपये का था। कौंसिल चुनाव होने के कारण ठेकेदार ने काम शुरू कर डाला। इस दौरान जैसे जैसे ठेकेदार सड़क बनाता गया कांग्रेसी ने उद्घाटन करते गए। जिसके चलते एक ही सड़क का चार बार उद्घाटन हो गया। कांग्रेसी नेताओं की छत्रछाया होने से ठेकेदार ने बिना मेनहोल ढक्कन चेक किए ही सड़क बना डाली।

खबरें और भी हैं...