पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

स्वच्छ सर्वेक्षण:5 साल में निगम को 12 करोड़ जारी, न नुक्कड़ नाटक, न ही अवेयरनेस, रैंकिंग में भी सुधार नहीं

लुधियाना10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
स्वच्छता सर्वेक्षण को लेकर अधिकारियों की हुई मीटिंग।
  • निगम ने फंड कहां खर्च किया पता नहीं, सर्वेक्षण का दूसरा क्वार्टर जारी, अभी तक सिर्फ मीटिंगें ही हो रही

शहर स्वच्छ सर्वेक्षण-2021 का हिस्सा बना है और साल 2016 से देश की टॉप सिटी के साथ प्रतियोगिता में हिस्सा लेता आया है। स्वच्छ शहर की छवि बनाने के लिए नगर निगम लुधियाना को स्वच्छ सर्वेक्षण के तहत साल 2016 से लेकर 20 तक 12 करोड़ से ज्यादा की राशि मिली। मगर इस राशि का कहां पर इस्तेमाल किया गया है, ये तो हर सर्वेक्षण के नतीजों की पता चल गया है।

हालांकि निगम को नुक्कड़ नाटक, जागरुकता, सर्वेक्षण के तहत रखे गए मुलाजिमों की सैलरी, गाड़ियों की खरीद करने, मीटिंगों के दौरा खाने-पीने समेत शहर में जागरुकता बैनर, होर्डिंग्स पर खर्च करने के लिए मिलते हैं। मगर निगम के पास आए फंड का कहां-कहां पर इस्तेमाल किया गया है, इसका कुछ अता-पता नहीं।

स्वच्छ सर्वेक्षण को लेकर दूसरा क्वार्टर जारी है। इस बार सर्वेक्षण-2021 में 6000 अंक आने पर ही सिटी नंबर एक पर आएगी। जोन-ए में जॉइंट कमिश्नर स्वाति टिवाणा ने सर्वेक्षण-2021 को लेकर मीटिंग बुलाई। इसमें ओएंडएम, बीएंडआर, हेल्थ ब्रांच, हॉर्टिकल्चर विभाग का मुख्य रोल रहेगा। इन विभागों के कामों के नंबर इस बार के सर्वे में जुड़ने हैं। इसके तहत सभी को जिम्मेदारी बताने के लिए बुलाया। हेल्थ ब्रांच को डोर-टु-डोर, स्विपिंग, सेग्रीगेशन, चालान, प्लास्टिक फ्री जोन, पब्लिक अवेयरनेस के लिए बताया।

इसी तरह ओएंडएम ब्रांच के अधिकारियों को पब्लिक टॉयलेट, एसटीपी के नंबर जुड़ने के बारे में बताया गया। इसी तरह बीएंडआर को सीएंडडी प्लांट, डंप की दीवार करने के भी नंबर जुड़ने के बारे में बताया। जबकि कूड़े की प्रोसेसिंग करने वाली कंपनी एटुजेड को लिफ्टिंग, सेग्रीगेशन, प्लांट सही चलाने और हॉर्टीकल्चर ब्रांच के अफसरों को शहर की सड़कों के किनारे, सेंट्रल वर्ज को दुरुस्त करने समेत पेड़-पौधे लगाने की जिम्मेदारी बताई।15 गाड़ियां

खरीद नहीं पाया निगम

स्वच्छ सर्वेक्षण को लेकर जारी फंड पर भास्कर ने की पड़ताल की तो सामने आया कि निगम ने सर्वेक्षण के फंड से 15 टाटा ऐस गाड़ियां खरीदनी थी, लेकिन आज तक नहीं खरीदी गई, जबकि इसके लिए फंड भी आया था। इसी तरह शहर में स्वच्छ सर्वेक्षण की जागरुकता के लिए गली-मोहल्लों से लेकर पब्लिक प्लेस और अन्य फेस जगहों पर नुक्कड़ नाटक करवाए जाने थे, जो पिछले दो सालों से कहीं दिखे नहीं। इसी तरह डस्टबीन, पब्लिक टॉयलेट्स पर भी पैसे खर्च सर्वेक्षण के तहत तौर पर खर्च किए जाने थे, जबकि निगम अपने फंड से पहले ही पब्लिक टॉयलेट्स की मेंटेनेंस कर रहा है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आप भावनात्मक रूप से सशक्त रहेंगे। ज्ञानवर्धक तथा रोचक कार्यों में समय व्यतीत होगा। परिवार के साथ धार्मिक स्थल पर जाने का भी प्रोग्राम बनेगा। आप अपने व्यक्तित्व में सकारात्मक रूप से परिवर्तन भ...

और पढ़ें