कोरोना वैक्सीन:12-14 साल की 1.8 लाख आबादी, वैक्सीनेशन आज से; 20 हजार डोज आने की संभावना

लुधियाना8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
फाइल फोटो - Dainik Bhaskar
फाइल फोटो
  • सिविल और 4 सब डिवीजनल अस्पतालों में लगेगी वैक्सीन
  • जिले में 12-14 साल के 1.8 लाख बच्चे हैं, जोकि वैक्सीन लगवाने के योग्य

जिले में 12-14 साल के बच्चों के लिए भी बुधवार से वैक्सीनेशन ड्राइव की शुरुआत होगी। पहले दिन सिविल अस्पताल और जिले के चार सब डिवीजनल अस्पतालों (खन्ना, रायकोट, जगराओं और समराला) में 12-14 साल के बच्चों को वैक्सीन लगाई जाएगी। जिले में 20 हजार के तकरीबन डोज आने की संभावना है, जोकि बुधवार तड़के पहुंचेगी। ऐसे में सेंटरों में सुबह ही भेजी जाएगी। जिले में 12-14 साल के 1.8 लाख बच्चे हैं, जोकि वैक्सीन लगवाने के योग्य हैं।

बच्चों के लिए को-विन पोर्टल पर ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करवाने के अलावा मौके पर भी रजिस्ट्रेशन करवाने का विकल्प होगा। केंद्र के आदेश के मुताबिक बच्चों को कोर्बेवैक्स (बायोलॉजिकल इवान हैदराबाद द्वारा तैयार) 0.5 एमएल की डोज दी जाएगी। बच्चों को दो डोज लगेगी। दूसरी डोज 28 दिन के बाद लगाई जाएगी। केंद्र के आदेश के मुताबिक सिर्फ उन्हीं बच्चों को वैक्सीन लगेगी, जो 12 साल की उम्र के हो चुके हों। सिविल सर्जन डॉ. एसपी सिंह ने बताया कि वैक्सीनेशन ड्राइव की शुरुआत बुधवार को की जाएगी। योग्य बच्चे वैक्सीन लगवा सकते हैं।

कोविड के 3 नए संक्रमित

मंगलवार को जिले में कोविड के 3 नए संक्रमितों की पुष्टि हुई तीनों ही लुधियाना से संबंधित रहे। 3 मरीजों ने कोविड को हराया भी। 34 एक्टिव केसों में 31 होम आइसोलेशन में हैं, जबकि 3 प्राइवेट और सरकारी अस्पतालों में दाखिल हैं। अब तक 109748 संक्रमितों में से 107423 कोविड को हरा चुके हैं। 2291 की मौत हो चुकी है। अन्य जिलों-राज्यों से अब तक 14729 संक्रमित मिल चुके हैं। 1125 की मौत हो चुकी है। बुधवार को जिले में 242 साइटों पर वैक्सीनेशन होगी। इसमें 15-18 साल के किशोर वर्ग के लिए 26 साइटें, 18 प्लस के लिए कोविशील्ड की 149 साइटें कोवैक्सीन की 67 साइटें होंगी।

एक्सपर्ट व्यू : पेरेंट्स बिना किसी डर के लगवाएं बच्चों को वैक्सीन

कोविड-19 महामारी की शुरुआत के बाद से हम सभी ने बीमारी की गंभीरता बहुत देखी है, लेकिन साथ ही ये भी देखा कि जैसे-जैसे ज्यादा से ज्यादा आबादी वैक्सीनेट होती गई, वैसे गंभीरता भी कम हुई। मौत के आंकड़े में भी गिरावट हुई है। ऐसे में जितने ज्यादा लोग वैक्सीन लगवाएंगे उतना ही अगली लहर आने से बचाव रहेगा और गंभीरता भी कम होगी। वैक्सीन के सुरक्षा मानकों को तो पहले ही विभिन्न उम्र वर्ग में देखा जा चुका है। पूरे सुरक्षा मानकों को देखने के बाद ही वैक्सीन को बच्चों को लगवाने की अनुमति मिली है। ऐसे में पेरेंट्स बिना किसी डर और झिझक के अपने बच्चों को वैक्सीन लगवाएं। ताकि सुरक्षा बनी रहे।

-डॉ. बिशव मोहन, कोविड टास्क फोर्स मेंबर, डीएमसी

खबरें और भी हैं...