पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

स्मार्ट सिटी:हंबड़ां राेड सब-रजिस्ट्रार दफ्तर, कचहरी के पास बनेंगे 2 स्मार्ट वेंडिंग जाेन

लुधियानाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • नाेटिफिकेशन में 8989 वेंडराें काे ही मिलेगी रेहड़ी-फड़ी लगाने की जगह, प्राेजेक्टाें काे दी जा चुकी फाइनल मंजूरी

स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत शहर में हंबड़ां राेड स्थित सब रजिस्ट्रार दफ्तर और जिला कचहरी के पास अब दाे स्मार्ट वेंडिंग जाेन बनने वाले हैं। इन प्राेजेक्टाें काे फाइनल मंजूरी दी जा चुकी है। इसकी पुष्टि निगम कमिश्नर प्रदीप सभ्रवाल ने दी। ये दाेनाें वेंडिंग जाेन फिलहाल पायलट प्राेजेक्ट के तहत तैयार किए जाएंगे। इसकी सफलता के बाद पहले से फाइनल की जा चुकी वेंडिंग साइटाें पर काम शुरू हाेगा। इन दाेनाें काे बनाने पर लगभग 2 कराेड़ रुपए खर्च हाेने का अनुमान है। इनके टेंडर लगाने के आदेश जारी हाे चुके हैं। बता दें कि लोकल बॉडीज डिपार्टमेंट ने 64 वेंडिंग जाेन फाइनल कर नोटिफिकेशन जारी की थी।

इसके अनुसार शहर के चाराें जाेनों में 8989 वेंडराें काे ही रेहड़ी-फड़ी लगाने की मंजूरी मिलेगी। हालांकि पहले फेज में अभी दाे वेंडिंग जाेन विकसित किए जा रहे हैं। इसमें क्षमता के लिए वेंडिंग जाेन तैयार हाेने पर टाउन वेंडिंग कमेटी मीटिंग कर फीस भी फाइनल करेगी। स्ट्रीट वेंडिंग जोन बनने से फायदा ये है कि एक ही जगह पर ताजी सब्जियां, फल और हाईजीनिक फूड तो मिलेगा ही। साथ में ट्रैफिक जाम की समस्या से भी राहत मिलेगी। सुप्रीम कोर्ट ने साल 2010 में वेंडिंग जोन बनाने के आदेश दिए थे। केंद्र सरकार ने 2014 में स्ट्रीट वेंडर एक्ट बना दिया था और उसके आधार पर हर शहर में वेंडिंग जाेन बनाना जरूरी है।

नाेटिफिकेशन के मुताबिक चारों जोनों में 64 वेंडिंग जाेन किए फाइनल, जाेन-डी में सर्वाधिक 30 जाेन बनेंगे
बता दें कि लोकल बॉडीज डिपार्टमेंट ने नोटिफिकेशन जारी की है। उस मुताबिक जब चाराें जाेनों में वेंडिंग जाेन बन जाएंगे ताे जाेन वाइज वेंडराें काे जगह अलॉट हाेगी। इसमें जाेन-ए के लिए 6 वेंडिंग जाेन निर्धारित किए हैं, जहां 1543 की क्षमता हाेगी। जाेन-बी में 17 वेंडिंग जाेन हाेंगे, जहां 3354 वेंडराें की कैपेसिटी हाेगी, जाेन-सी में 11 वेंडिंग जाेन हाेंगे, जहां 1174 वेंडराें की कैपेसिटी और जाेन-डी में 30 वेंडिंग जाेन बनेंगे, जहां पर 2918 वेंडराें के खड़ा हाेने की कैपेसिटी हाेगी। अगर शहर में करवाए गए पुराने सर्वे की बात करें ताे करीब 22 हजार स्ट्रीट वेंडराें की निगम ने पहचान की थी। जबकि निगम रिकॉर्ड में अभी तक 8500 से ज्यादा ने रजिस्ट्रेशन करवाई है।

वेंडिंग जाेन बनने से ये हाेगा फायदा

  • निर्धारित जगहों पर ही रेहड़ी-फड़ी लगने से एक ही जगह पर सारा सामान उपलब्ध होगा।
  • निगम की हेल्थ ब्रांच की निगरानी में साफ-सुथरा वातावरण, ताजे फल-सब्जियां, हाइजेनिक फूड मिलेगा।
  • रेहड़ी-फड़ी के मालिक समेत वहां काम करने वाले सभी मुलाजिमों का मेडिकल होगा।
  • वेंडिंग जोन में हर सामान के दाम निर्धारित रहेंगे, उससे ज्यादा में रेहड़ी वाले सामान नहीं बेच सकेंगे।
  • शहर में कई ऐसे प्रमुख जगह हैं, जहां पर रेहड़ी-फड़ी के कारण चौराहों पर जाम लगता है, वो खत्म होगा।
  • तय जगह से हटकर अगर कोई उल्ट चलेगा तो उसकी रेहड़ी क्रश कर दी जाएगी और कानूनी कार्रवाई भी होगी।
  • वेंडिंग जोन की आधी जगह में रेहड़ी-फड़ी लगेंगी और आधी जगह पार्किंग के लिए छोड़ी जाएगी।
  • वेंडिंग जाेन में साफ-सफाई, पेयजल, टायलेट और रोशनी का पूरा प्रबंध रहेगा।
खबरें और भी हैं...