दुर्दशा:सिविल में 46 बेड पहुंचे, रखने को नहीं जगह; खुले में पड़े हैं लाखों की कीमत के बेड

लुधियानाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कोविड के मरीजों के लिए भेजे गए नए बेड में से 10 बच्चों के लिए - Dainik Bhaskar
कोविड के मरीजों के लिए भेजे गए नए बेड में से 10 बच्चों के लिए
  • जिलेभर में सरकारी अस्पतालों के लिए 452 बेड्स की भेजी गई थी डिमांड
  • कोविड के मरीजों के लिए भेजे गए नए बेड में से 10 बच्चों के लिए

सरकारी हॉस्पिटल्स में कोविड के मरीजों के इलाज के लिए तीसरी लहर आने पर किसी तरह की समस्या न आए ऐसे में नए बेड्स की डिमांड के बाद मंगवाए गए। लेकिन अब सिविल हॉस्पिटल में नए बेड्स को रखने की जगह नहीं बन पा रही। ऐसे में बेड्स को फिक्स करने के बाद एमरजेंसी के पास खुले में ही रखा गया है। 6-7 बेड्स को एमरजेंसी में लगवा दिया गया। लेकिन बाकि अभी भी यूं ही रखे हैं।

गौर को कि 46 नए बेड्स आए जिनमें से 10 बच्चों के लिए हैं। लाखों की कीमत के ये बेड्स यूं ही रखे गए हैं। गौरतलब है कि जिले में अभी कोविड के इलाज के लिए लेवल-2 के 478 बेड्स रिजर्व किए गए हैं। जबकि लेवल-3 के 16 बेड्स सिविल हॉस्पिटल में हैं। जिले भर में सिविल हॉस्पिटल से लेकर कम्युनिटी हेल्थ सेंटर्स में जरुरत के मुताबिक 452 बेड्स की डिमांड भेजी गई थी। जिन्हें हर सेंटर में उनकी डिमांड के अनुसार भेजा गया है। स्टोर इंचार्ज अरुण कुमार ने बताया कि अभी जगह बनाई जा रही है। उसके मुताबिक हम रखवाएंगे।

कोरोना के 2 नए केस, डेंगू के 3 मरीज

मंगलवार को जिले में कोविड के 2 नए संक्रमित मिले हैं। लेकिन इनमें लुधियाना से संबंधित कोई मरीज नहीं है। डिस्ट्रिक्ट एपिडिमोलॉजिस्ट डॉ. साहिल ने बताया कि जो स्टूडेंट्स और टीचर पॉजिटिव मिले हैं उनके कॉन्टेक्ट की ट्रेसिंग और सैंपलिंग की जा रही है। प्राइवेट स्कूलों में भी टीमें भेजी जा रही हैं जो सैंपल्स ले रही हैं। मंगलवार को जिले का कोई भी संक्रमित नहीं मिला है। गौरतलब है कि जिले में अब तक 87707 मरीजों की रिपोर्ट पॉजिटिव मिली है। 36 एक्टिव केस में 32 होम आइसोलेशन में हैं। जबकि 4 प्राइवेट हॉस्पिटल्स में एडमिट हैं। अन्य जिलों के अब तक 11750 की रिपोर्ट पॉजिटिव रही है। 1 एक्टिव केस और 1061 की मौत हो चुकी है। जिले में बुधवार को 34 वैक्सीनेशन साइट्स पर वैक्सीनेशन होगी। मंगलवार को जिले में डेंगू के 3 नए मरीजों की पुष्टि हुई है। इनमें 1 मरीज कूमकलां और 2 बाहरी जिलों से संबंधित हैं।

डीएवी में एग्जाम ऑफलाइन न लेने की मांग

डीएवी स्कूल बीआरएस नगर के पेरेंट्स द्वारा स्कूल में पॉजिटिव केस मिलने के बाद स्कूल को बंद करने और एग्जाम ऑफलाइन न लेने की मांग की है। पेरेंट्स द्वारा डीसी, एजुकेशन विभाग और सरकार को मांग पत्र दिया गया है। पेरेंट्स के मुताबिक एक अध्यापक के पॉजिटिव आने से अन्य स्टूडेंट्स को खतरा बढ़ गया है।

खबरें और भी हैं...