पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कोरोना का आतंक:ब्लैक फंगस के 5 नए केस, 2 मौतें, तीसरी लहर में बच्चे होंगे अधिक प्रभावित, अभी कहना मुश्किल

लुधियाना20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
बस स्टैंड पर बिना मास्क घूमते रहे यात्री। - Dainik Bhaskar
बस स्टैंड पर बिना मास्क घूमते रहे यात्री।
  • 401 नए मामले, 24 मौतें, वेंटिलेटर पर 46 मरीज

कोरोना महामारी की दूसरी लहर के बाद अब तीसरी लहर का भी खतरा बताया जा रहा है। तीसरी लहर में बच्‍चों के प्रभावित होने को लेकर स्‍वास्‍थ्‍य विशेषज्ञों में भी मतभेद है। ये बात उठ रही है कि कोविड की तीसरी लहर में बच्चों पर कहर सबसे ज्यादा हो सकता है, क्योंकि अभी तक वैक्सीनेशन से वंचित इस ग्रुप के कोविड की चपेट में आने से या प्रभावित होने से इनकार नहीं किया जा सकता। लिहाजा बच्‍चों की सुरक्षा को लेकर खास इंतजाम करने पड़ेंगे। जब बच्चे आपस में मिलेंगे, स्कूल खुलेंगे तो खतरा हो सकता है।

फिलहाल सतर्क जरूर रहें, लेकिन चिंता न पालें। अभिभावकों को चाहिए कि वो बच्चों पर सुरक्षा घेरा बनाए रखें। साफ सफाई के साथ ही कोविड प्रोटोकोल के तमाम एहतियातों का सख्ती से पालन करें। डीएमसीएच के मेडिसिन स्पेशलिस्ट डॉ. अमित बेरी ने बताया कि कोरोना की तीसरी लहर में बच्चे ज्यादा संक्रमित होंगे, ऐसा सिर्फ इसलिए माना जा रहा है कि बच्चे वैक्सीनेटेड नहीं होंगे। वैक्सीनेशन हो चुके लोगों में कोरोना संक्रमित होने की संभावना कम होगी। बच्चों की वैसे तो इम्युनिटी मजबूत ही होती है, लेकिन फिर भी संक्रमण से बचाव को हेल्दी डाइट दें। विटामिन शामिल करें। वहीं, शनिवार को ब्लैक फंगस के पांच नए मामले आए और दो मरीजों की मौत भी हो गई।

फ्लू कॉर्नर जांच में 171 पॉजिटिव, 3 गर्भवती और 3 मुलाजिम भी चपेट में आए

जिले में शनिवार को 401 सैंपलों की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव प्राप्त हुई, जिसमें से 343 मामले लुधियाना और 58 मामले दूसरे जिलों के रहे। पॉजिटिव मरीजों के संपर्क में आकर 11 लोग पॉजिटिव हुए, जबकि फ्लू कॉर्नर जांच में 171 लोग पॉजिटिव मिले, ओपीडी जांच में 71 पॉजिटिव आए। तीन गर्भवती महिलाएं, तीन पुलिस मुलाजिम, एक अंडर ट्रायल पॉजिटिव पाया गया। जिले से संबंधित पॉजिटिव केसों की गिनती अब 83594 हो गई है। जबकि दूसरे राज्यों के पॉजिटिव केसों की गिनती 10897 पहुंच गई है। वहीं, कोरोना के साथ जिले में 24 संक्रमितों ने दम तोड़ा, जिसमें से 14 संक्रमित लुधियाना के रहने वाले थे। इनमें से सात संक्रमित गांवों के रहने वाले थे। उधर, अब तक जिले के रहने वाले 1988 संक्रमितों की मौत हो चुकी है। जबकि दूसरे जिलों के रहने वाले 977 संक्रमितों की मौत हुई है। वहीं, 46 मरीज वेंटिलेटर पर हैं, जिसमें से 27 मरीज लुधियाना और 19 दूसरे जिलों से संबंधित हैं। एक्टिव केस अब 5217 रह गए। इनमें 554 निजी अस्पतालों, 110 सरकारी अस्पतालों और 4233 होम आइसोलेशन में हैं। जिले में अब तक 76389 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं और कोरोना मरीजों के स्वस्थ होने की दर 91.38% तक पहुंच गई है। सेहत विभाग ने 14125 लोगों के सैंपल लिए।

एक्सपर्ट व्यू: इम्युनिटी बढ़ाने के लिए बच्चों को दें पौष्टिक आहार

अभी इसका कोई प्रमाण नहीं है कि तीसरी लहर में बच्चे अधिक प्रभावित होंगे। यह सिर्फ इसलिए कहा जा रहा है कि बच्चों को वैक्सीनेशन नहीं हुई है। इस वजह से बच्चे असुरक्षित हैं। बड़ों की तरह ही बच्चों को कोरोना हो सकता है। बच्चे भी मास्क पहनें, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें और हाथ धोते रहें। बच्चों की इम्युनिटी बढ़ाने के लिए पौष्टिक आहार दें। घर से बाहर जाने न दें।

-डाॅ. माेनिका शर्मा, पीडियाट्रिक, सीएमसी

ब्लैक फंगस के 69 मामलों की पुष्टि

जिले में ब्लैक फंगस के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। शनिवार को ब्लैक फंगस के पांच नए मामले सामने आए। इनमें से चार मरीज डीएमसी और एक मरीज दीपक अस्पताल में मिला। वहीं, ब्लैक फंगस पीड़ित दो मरीजों की मौत हो गई। जिले में अब तक ब्लैक फंगस के 69 मामलों की पुष्टि हो चुकी है। अब तक ब्लैक फंगस के जो मामले आए है, उनमें से 27 लुधियाना के हैं, जबकि 42 मामले दूसरे जिलों से संबंधित हैं। डीएमसी अस्पताल में इस समय ब्लैक फंगस के 30, सीएमसी अस्पताल में 13, दीप अस्पताल में 9, ओसवाल अस्पताल में 2, एसपीएस अस्पताल में 11, फोर्टिस अस्पताल में 1, एसएएस गरेवाल अस्पताल में 1, सिविल अस्पताल में एक और दीपक अस्पताल में एक मरीज की पुष्टि हुई है। वहीं, अब तक ब्लैक फंगस पीड़ित 8 मौतंे हो चुकी हैं।​​​​​​​​​​​​​​

खबरें और भी हैं...