बचाव कर्मी ही लापरवाह:8430 सेहत कर्मी, 73 हजार फ्रंटलाइन वर्कर 84 दिन बाद भी नहीं लगवाने पहुंचे दूसरी डोज

लुधियाना20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
तस्वीर रुपा मिस्त्री गली की है। - Dainik Bhaskar
तस्वीर रुपा मिस्त्री गली की है।
  • तीसरी लहर रोकने के लिए वैक्सीनेशन जरूरी और हाल देखिए

कोरोना के बचाव के लिए जिलेभर में टीकाकरण किया जा रहा है। तीसरी लहर को रोकने के लिए वैक्सीनेशन सबसे अहम है। अभी राहत ये है कि संक्रमण दर 0.07% से भी नीचे है। वहीं, रोज 2-4 केस आ रहे हैं, लेकिन आगे भी यही हालात रहे तो दूसरी लहर जैसी भयावहता किसी को न देखनी पड़े, इसके लिए प्रशासन से सेहत महकमे के लोगों को वैक्सीनेशन के लिए प्रेरित किया है, लेकिन सेहत मुलाजिमों और फ्रंटलाइन वर्करों में ही जागरुकता का अभाव देखने को मिल रहा है।

नियमों के मुताबिक कोविशील्ड की दूसरी डोज 84 दिन बाद और कोवैक्सीन की दूसरी डोज 45 दिन बाद लगवाई जा सकती है। अगर किसी को विदेश जाना है या किसी अन्य कारण से वो 84 दिन से पहले भी कोविशील्ड की दूसरी डोज लगवाना चाहते हैं तो कागजात दिखा लगवा सकते हैं। हर वॉर्ड में कम से कम एक कैंप तो लग ही रहा है। इसके बावजूद 8430 सेहत मुलाजिम और 73660 फ्रंटलाइन वर्कर ऐसे हैं, जिन्होंने 84 दिन से भी ज्यादा का समय बीतने के बाद भी दूसरी डोज नहीं लगवाई है। 18-44 साल के 16190 लाभार्थी, 45-60 के 61187 और 60 से ज्यादा के 68952 लाभार्थी दूसरी डोज नहीं लगवाने पहुंचे।

अवेयरनेस के चलते 60+ के 1.34 लाख लोग लगवा चुके दोनों डोज

सेहत मुलाजिमों को सबसे पहले जनवरी में वैक्सीन लगने की शुरुआत हो गई थी। अभी तक 33750 सेहत कर्मी पहली डोज लगवा चुके हैं, लेकिन 24312 ने ही दोनों डोज लगवाई है। यानी सिर्फ 72 फीसदी ने ही फुल वैक्सीनेशन करवाई। फ्रंटलाइन वर्करों में 111916 ने पहली डोज अब तक लगवाई है। इसमें से महज 34695 ने ही दोनों डोज लगवाई है। यानी सिर्फ 31 फीसदी ही फुल वैक्सीनेट हैं। 18-44 साल में 973545 ने पहली और 323115 ने दोनों डोज लगवा ली है। जबकि इस उम्र वर्ग को 10 मई को वैक्सीन लगनी शुरू हुई थी। 6 महीनों में 33 फीसदी लोग फुल वैक्सीनेट हो चुके हैं। 45-60 साल के 565745 लाभार्थी पहली और 284945 दोनों डोज लगवा चुके हैं, जो 50 फीसदी है। 60 से ज्यादा उम्र के 272502 ने पहली और 134334 ने दोनों डोज लगवा ली है। इनमें 49.3 फीसदी आबादी फुल वैक्सीनेट है। कोवैक्सीन में 18-44 साल के 210015 पहली और 88081 दोनों डोज लगवा चुके हैं।

सेहत महकमे की तरफ से लगातार हर किसी को दोनों डोज लगवाने के लिए जागरूक किया जा रहा है। यहां तक कि रिमाइंडर मैसेज भी जाते हैं। हमें उम्मीद है कि जुलाई में जिन्होंने वैक्सीनेशन करवाई है, वो जल्द ही दूसरी डोज भी लगवा लेंगे।
-डॉ. पुनीत जुनेजा, नोडल अफसर, कोविड-19 वैक्सीनेशन

खबरें और भी हैं...