लखीमपुर के लिए निकले AAP पंजाब के नेता हिरासत में:राघव चड्ढा, हरपाल चीमा, कुलतार संधवां और बलजिंदर कौर ने पुलिस लाइन में काटी रात, बोले- पीड़ित परिवारों से मिले बगैर नहीं लौटेंगे

लुधियाना3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
लखीमपुर खीरी में प्रदर्शन कर रहे आम आदमी पार्टी कार्यकर्ता को हिरासत में लेती पुलिस। - Dainik Bhaskar
लखीमपुर खीरी में प्रदर्शन कर रहे आम आदमी पार्टी कार्यकर्ता को हिरासत में लेती पुलिस।

लखीमपुर खीरी घटने के पीड़ित परिवारों से मिलने उत्तर प्रदेश पहुंचे आम आदमी पार्टी पंजाब के नेताओं को पुलिस ने हिरासत में लिया है। सभी ने पूरी रात पुलिस लाइन में काटी। उनका कहना है कि वह तब तक यहां से नहीं जाएंगे, जब तक उन्हें पीड़ित परिवारों से मिलने नहीं दिया जाता है। आप नेताओं का कहना है कि उत्तर प्रदेश में बिना किसी घोषणा के इमरजेंसी लगा दी गई है।

लखीमपुर में हुई घटना के बाद आम आदमी पार्टी के पंजाब सह प्रभारी राघव चड्ढा, विरोधी पक्ष के नेता हरपाल चीमा, विधायक कुलतार संधवां और बलजिंदर कौर एक शिष्टमंडल लेकर लखीमपुर खीरी के लिए रवाना हुए थे। मगर उन्हें लखीमपुर के पास ही रोक लिया गया। जिसके बाद उनकी ओर से वहीं सड़क पर ही धरना प्रदर्शन शुरू कर दिया । पुलिस ने वहां से उन्हें हिरासत में लेकर पुलिस लाइन में बंद कर दिया। आप नेताओं ने वहीं पर खाना खाया और पूरी रात वहीं गुजारी।

लखीमपुर खीरी गए आम आदमी पार्टी नेता पुलिस लाइन में खाना खाते हुए
लखीमपुर खीरी गए आम आदमी पार्टी नेता पुलिस लाइन में खाना खाते हुए

जब तक मिलने नहीं देंगे यहीं रहेंगेः हरपाल चीमा
विरोधी पक्ष के नेता हरपाल चीमा ने कहा है कि उन्हें पुलिस लाइन के भीतर हिरासत में रखा गया। मगर हम तब तक यहां रहेंगे, जब तक हमें पीड़ित परिवारों से मिलने नहीं दिया जाता है। वह जिम्मेदार पार्टी के नेता हैं और विश्वास दिलाते हैं कि उनके वहां जाने से किसी तरह का विवाद या उपद्रव नहीं होने वाला। सरकार को उन्हें पीड़ित परिवारों से मिलने देना चाहिए।

उत्तर प्रदेश में बिना घोषणा के इमरजेंसी लागूः संधवां
आम आदमी पार्टी किसान विंग प्रधान कुलतार सिंह संधवां का कहना है कि उत्तर प्रदेश में बिना ऐलान के इमरजेंसी लगाई गई है। यहां पर विरोधी पार्टियों पर पाबंदी लगाई जा रही है। भाजपा के गुंडे सरेआम घूम रहे हैं और सत्ता पक्ष का विरोध करने वालों पर दबाव बनाया जा रहा है। मगर हम डरने वाले नहीं हैं, हम पीड़ित परिवारों से मिलने आए हैं और मिलकर ही वापस जाएंगे।

खबरें और भी हैं...