PRTC और रोडवेज कर्मियों की हड़ताल टली:आने वाली कैबिनेट बैठक में मुलाजिमों की मांगें मानने का आश्वासन, मुलाजिमों की हड़ताल टली

लुधियाना2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
हड़ताल को लेकर परिवहन मंत्री अमरिंदर सिंह राजा वडिंग से बात करते हुए यूनियन सदस्य - Dainik Bhaskar
हड़ताल को लेकर परिवहन मंत्री अमरिंदर सिंह राजा वडिंग से बात करते हुए यूनियन सदस्य

पंजाब में पीआरटीसी और रोडवेज कर्मी हड़ताल फिर टल गई है। मुलाजिमों की तरफ से आज बस स्टैंड से सरकारी बसें बंद करने का ऐलान किया था। मगर कल देर शाम हुई बैठक में परिवहन मंत्री अमरिंदर सिंह राजा वडिंग और MD पंजाब रोड ट्रांस्पोर्ट कार्पोरेशन ने विश्वास दिलाया है कि सभी मुलाजिमों को पक्का करने का फैसला ले लिया गया है और अगली बैठक में इस पर एलान कर दिया जाएगा। जिसके बाद यह हड़ताल वापिस ले ली है और एलान किया है कि अगर अगली कैबिनेट में फैसला नहीं लिया जाता है तो वह हड़ताल पर चले जाएंगे। ​

मुलाजिमों का कहना है कि नई सरकार का गठन होने पर उनसे 20 दिन का समय मांगा गया था और अब 60 दिन निकल चुके हैं। मगर वादा वफा नहीं हुआ। यही नहीं मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी द्वारा नगर निगम के सभी मुलाजिमों को 10 दिन के भीतर पक्के करने का जो ऐलान किया गया है, वह उनके जख्मों पर नमक डाला है।

पंजाब रोडवेज कच्चे मुलाजिम यूनियन अध्यक्ष शमशेर सिंह का कहना है कि पिछले लंबे समय से हजारों कर्मचारी सरकारी बसों को चला रहे हैं। उन्हें ठेकेदारी पर रखा गया था और वादा किया था कि पक्का किया जाएगा। मगर ऐसा नहीं हो पा रहा है। पहले कैप्टन सरकार ने लगाए, अब चन्नी सरकार लारे लगा रही है।

पहले भी हड़ताल की थी और 9 दिन की हड़ताल के बाद उन्हें आश्वासन दिया गया था कि सब कुछ ठीक हो जाएगा। जब चरणजीत सिंह चन्नी की सरकार बनी तो यही वादा दोहराया गया था। मगर उन्हें पक्का करने की पॉलिसी नहीं बनाई गई, अब अगर उनकी मांगें नहीं मानी गईं तो वह लंबी हड़ताल पर चले जाएंगे।

प्राईवेट बसें भी बंद अगर सरकारी नहीं चलीं तो होगी समस्या, इसी लिए टाली हड़ताल पंजाब सरकार की तरफ से परिवहन मंत्री अमरिंदर सिंह राजा वडिंग ने 500 के करीब बसें बंद की हैं, अगर आज पंजाब के बस स्टेंड बंद हो जाते तो इसका सीधा असर आम लोगों पर पड़ने वाला था और यही कारण है कि सरकारी बस कर्मियों की हड़ताल से पहले मीटिंग बुलाई गई और हड़ताल को समाप्त कर दिया गया है।

बंद हो जाने थे सरकार के 27 बस स्टैंड

अगर पीआरटीसी और पंजाब रोडवेज के मुलाजिम हड़ताल पर चले जाते तो पब्लिक ट्रांसपोर्ट की समस्या खड़ी होने वाली थी। क्योंकि जिस तरह से प्राइवेट बस ऑपरेटरों पर विभाग की तरफ से कार्रवाई की गई है। उससे साफ है कि बहुत-सी प्राइवेट बसें बंद हो गई हैं और सरकारी बसें बंद होती हैं तो समस्या खड़ी हो सकती है, जिसका अंदेशा कर्मचारियों ने पहले जता दिया है।