योगी आदित्यनाथ को जरनल डायर अवार्ड भेजेंगे रंधावा:जेल से बाहर आते ही डिप्टी CM का ऐलान; बोले- लखीमपुर हिंसा पर PM मोदी कड़ा एक्शन लें, यूपी सरकार ने 3 घंटे जेल में रखा,

लुधियाना4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
साथी विधायकों के साथ सुखजिंदर रंधावा। - Dainik Bhaskar
साथी विधायकों के साथ सुखजिंदर रंधावा।

पंजाब के उपमुख्यमंत्री सुखजिंदर सिंह रंधावा उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को जरनल डायर अवार्ड भेजेंगे। जेल से बाहर आते ही मीडिया के सामने उन्होंने यह ऐलान किया। उपमुख्यमंत्री रंधावा उत्तर प्रदेश के लखीमपुर में विरोध प्रदर्शन के लिए गए थे लेकिन यूपी पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया और सरसावां पुलिस थाने में रखा।

करीब 3 घंटे बाद उन्हें रिहा किया गया। थाने से निकलते ही वह गुरुद्वारा दीप सिंह पहुंचे और वहां माथा टेका। इसके बाद उन्होंने मीडिया से कहा कि जो कुछ लखीमपुर खीरी में हुआ वह निंदनीय है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को इस पर एक्शन लेना चाहिए। रंधावा ने कहा कि वह यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को जरनल डायर अवार्ड भेजेंगे।

सुखजिंदर रंधावा को हिरासत में लेते समय विधायकों और पुलिस की जमकर धक्कमुक्की हुई।
सुखजिंदर रंधावा को हिरासत में लेते समय विधायकों और पुलिस की जमकर धक्कमुक्की हुई।

लखीमपुर जाते समय पुलिस ने बॉर्डर पर किया गिरफ्तार

पंजाब के उप मुख्यमंत्री सुखजिंदर रंधावा को लखीमपुर जाते समय सोमवार को यूपी पुलिस ने हिरासत में ले लिया था। उन्हें सहरानपुर के सरसावां पुलिस थाने में रखा गया था। उन्होंने देर शाम वहीं खाना खाया और लखीमपुर जाने की बात पर अड़े रहे।

इससे पहले सोमवार को योगी सरकार ने चन्नी और रंधावा के हेलिकॉप्टर को लखनऊ में लैंडिंग की परमिशन नहीं दी थी। इसके बाद रंधावा कुछ विधायकों के साथ सड़क मार्ग से लखीमपुर के लिए रवाना हुए। जैसे ही उनका काफिला यमुनानगर से सहारनपुर में दाखिल हुआ, यूपी पुलिस ने उन्हें बॉर्डर पर ही रोक लिया। उन्हें आगे जाने की इजाजत नहीं दी। इसके बाद रंधावा और अन्य विधायकों ने लखीमपुर में हुई घटना के खिलाफ वहीं बैठकर केंद्र और राज्य सरकार के खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी। मामला बढ़ता देख पुलिस ने रंधावा, विधायक कुलबीर जीरा और अंगद सैनी को हिरासत में ले लिया गया था।

सरसावां पुलिस थाने में खाना खाते डिप्टी सीएम सुखजिंदर रंधावा।
सरसावां पुलिस थाने में खाना खाते डिप्टी सीएम सुखजिंदर रंधावा।

पंजाब से आने वालों पर लगाई गई है पाबंदी

उत्तर प्रदेश सरकार ने पंजाब के गृह विभाग को पत्र लिखकर अपील की थी कि वह पंजाब के लोगों को यूपी में नहीं आने दें। इसके बाद उप मुख्यमंत्री सुखजिंदर सिंह रंधावा ने उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में हेलिकॉप्टर उतारने की मांग की थी। मगर इसकी इजाजत नहीं दी गई। बाद में मुख्यमंत्री ने इसकी इजाजत मांगी, तो उन्हें भी इनकार कर दिया गया।

मुख्यमंत्री चरणजीत चन्नी ने कहा- यूपी सरकार कर रही अत्याचार

पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत चन्नी ने सुखजिंदर रंधावा और विधायकों को हिरासत में लिए जाने की कड़े शब्दों में निंदा की है। उन्होंने ट्वीट कर कहा कि लखीमपुर घटना के पीड़ित परिवारों से मिलने के लिए कांग्रेस नेताओं को यूपी में प्रवेश करने की अनुमति क्यों नहीं दी जा रही है? हमारे डिप्टी सीएम सुखजिंदर रंधावा और विधायकों को यूपी-हरियाणा बॉर्डर पर हिरासत में लिया गया। मैं यूपी सरकार द्वारा किए जा रहे इस तरह के अत्याचार की निंदा करता हूं।

खबरें और भी हैं...