भगवंत मान ने फिर AAP के कार्यक्रमों से बनाई दूरी:CM उम्मीदवार घोषित नहीं किए जाने से नाराज हैं पार्टी के पंजाब प्रदेश प्रधान, अरविंद केजरीवाल ने साफ इंकार कर दिया है

लुधियाना2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अपने कार्यालय में वर्करों से मिलते हुए की यह फोटो भगवंत मान ने 2 अक्तूबर को पोस्ट की है। - Dainik Bhaskar
अपने कार्यालय में वर्करों से मिलते हुए की यह फोटो भगवंत मान ने 2 अक्तूबर को पोस्ट की है।

आम आदमी पार्टी के पंजाब प्रदेश अध्यक्ष भगवंत मान इन दिनों नाराज चल रहे हैं। इसलिए वह पार्टी के कार्यक्रमों में भी हिस्सा नहीं ले रहे हैं। लखीमपुर की घटना पर भी वह एकदम से शांत हैं, जबकि पार्टी की तरफ से बड़े स्तर पर विरोध प्रदर्शन किए जा रहे हैं। एक शिष्टमंडल राघव चड्‌ढा की अगुवाई में लखीमपुर गया। चंडीगढ़ में राज भवन के घेराव का बड़ा एक्शन पार्टी की तरफ से लिया गया। मगर इन दोनों कार्यक्रमों में वह शामिल नहीं हुए। इससे साफ है कि वह पार्टी से नाराज चल रहे हैं। दरअसल आम आदमी पार्टी ऐलान कर चुकी है कि इस बार का चुनाव में सीएम उम्मीदवार के ऐलान के साथ लड़ेगी। भगवंत मान चाहते हैं कि पार्टी उन्हें सीएम का चेहरा बनाए। मगर ऐसा हो नहीं रहा है। इसके लिए वह शक्ति प्रदर्शन भी कर चुके हैं। बहुत से लोग उनके घर जाकर इसकी मांग भी कर चुके हैं। इस शक्ति प्रदर्शन की फोटो भी सोशल मीडिया पर वायरल हुई थीं, लेकिन कोई फायदा होता दिख नहीं रहा।

लखीमपुर खीरी, हिरासत में लिए जाने के बाद पुलिस लाइन में खाना खाते आप नेता, जबकि इनमें भगवंत माने नहीं हैं।
लखीमपुर खीरी, हिरासत में लिए जाने के बाद पुलिस लाइन में खाना खाते आप नेता, जबकि इनमें भगवंत माने नहीं हैं।

7 दिन पहले अरविंद केजरीवाल के साथ दिखे थे

30 सितंबर को अरविंद केजरीवाल लुधियाना आए थे और दो दिन यहीं रहे। इस दौरान व्यापारियों के साथ बैठक हुई तो भगवंत मान उनके साथ स्टेज पर रहे और दूसरे दिन अरविंद केजरीवाल की पत्रकारवार्ता के दौरान उनके साथ भी दिखे। इसके बाद से वह फिर लापता हो गए। वह पार्टी का कोई प्रोग्राम अटैंड नहीं कर रहे हैं और न ही सक्रिय राजनीति में दिख रहे हैं। केजरीवाल के दौरे से पहले भी हालात ऐसे ही थे और उम्मीद थी कि केजरीवाल के आने के बाद सब ठीक होगा, लेकिन ऐसा होता दिख नहीं रहा है।

30 सितंबर को अरविंद केजरीवाल के साथ लुधियाना आए थे भगवंत मान
30 सितंबर को अरविंद केजरीवाल के साथ लुधियाना आए थे भगवंत मान

सीएम बनाने पर साफ मना कर गए केजरीवाल

भगवंत सिंह मान को पंजाब का मुख्यमंत्री चेहरा बनाने से अरविंद केजरीवाल ने साफ मना कर दिया। इस संबंध में पूछे गए सवाल पर उन्होंने यह जवाब दिया था कि भगवंत मान रुठा नहीं है। वह उनका छोटा भाई है। हम लोग राजनीति में नाम या पद के लिए नहीं आए हैं। मुख्यमंत्री का चेहरा दिया जाएगा और ऐसा दिया जाएगा, जिस पर नाज होगा। इसके बाद 7 दिन हो गए हैं, भगवंत मान सक्रिय राजनीति से गायब हैं।

खबरें और भी हैं...